172 Views

प्रणब मुखर्जी के आरएसएस के कार्यक्रम में जाने पर विवाद

दिल्ली:---

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। इस बात को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं कि पूरी जिंदगी मुखर्जी आरएसएस की आलोचना करते रहे और अब वे आरएसएस के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर क्यों जा रहे हैं। हालांकि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मुखर्जी के नागपुर जाने को लेकर बचाव करते हुए कहा है कि आरएसए को कोई पाकिस्तानी संगठन नहीं है।

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

नितिन गडकरी ने कहा है कि आरएसएस के कार्यक्रम में किसे जाना है और किसे बुलाना है। ये जाने वालों और बुलाने वालों का अधिकार है। मैं मानता हूं कि राजनीति छुआछूत अच्छी बात नहीं हैं। हमें एक दूसरे से मिलना चाहिए, बातचीत करनी चाहिए और एक दूसरे के विचारों का सम्मान करना चाहिए। राजनीतिक छुआछूत की बात करने वाले दूसरे को कम्यूनल कहत हैं लेकिन खुद कम्यूनल हैं।

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

इससे पहले कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने कहा कि हमारे नेता और मंत्री के तौर पर उन्होंने (प्रणब मुखर्जी) कई बार हमसे आरएसएस और बीजेपी के बारे में बात की। प्रणब दादा की मंशा के हिसाब से आरएसएस से ज्यादा घटिया और गंदी संस्था कोई हिंदुस्तान में नहीं है। प्रणब दा ने आएसएस के झूठ तंत्र के बारे में बताया उसे सांप्रदायिक बताया।

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

गौरतलब है कि प्रणब मुखर्जी आरएसएस के त्रितिया शिक्षा वर्ग कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर जा रहे हैं। त्रितिया शिक्षा वर्ग संघ के प्रचारक बनाने की प्रक्रिया का सबसे उच्च ट्रेनिंग प्रोग्राम है।