येदियुरप्पा ने सीएम बनते ही किसानों को दी

*येदियुरप्पा ने सीएम बनते ही किसानों को दी बड़ी  सौगात, एक लाख तक के  कर्जे किए माफ*

〰〰〰〰〰〰〰〰〰

कर्नाटक के मुख्यमंत्री की कमान संभालते ही येदियुरप्पा ने किसानों के 1 लाख रुपए तक के कर्ज माफ करने की घोषणा की। सीएम पद की शपथ लेने के बाद येदियुरप्पा पूरे जोश में नजर आए और सीधे जा पहुंचे विधानसभा और अधिकारियों की बैठक लेने के बाद पहला बड़ा फैसला लिया। इस फैसल को उनके समर्थकों ने प्रदेश के लिए पहला तोहफा बताया है ।

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

इससे पहले सीएम पद की शपथ लेने के बाद बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा कि तीसरी बार मुख्यमंत्री पद संभालने के लिए मैं लोगों को बधाई देता हूं। मुझे खेद है कि कांग्रेस और जेडीएस ने एक अपवित्र गठबंधन बनाया। उन्‍होंने कहा कि मैं सभी 224 विधायकों का समर्थन चाहता हूं। मुझे यकीन है कि वे अपने विवेक के अनुसार मतदान करेंगे। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है इसलिए मैं इस मुद्दे पर चर्चा नहीं करना चाहता हूं। मुझे विश्वास है कि विश्‍वास मत हासिल करूंगा और पांच साल सरकार चलाउंगा।

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

इससे पहले राज्यपाल वजुभाई वाला ने बीएस येदियुरप्पा को कर्नाटक के 23वें मुख्यमंत्री के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। उनके साथ किसी अन्य नेता ने फिलहाल मंत्री पद की शपथ नहीं ली है। इसके खिलाफ कांग्रेस नेताओं ने विधानसभा के बाहर महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

―------------~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

वहीं येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण को रोकने के लिए कांग्रेस और जनता दल-सेक्युलर (जेडीएस) ने सुप्रीम कोर्ट में बुधवार रात याचिका दी थी, जिस पर कोर्ट ने रात करीब 3.30 पर शपथ ग्रहण पर तो रोक लगाने से इनकार कर दिया और बीजेपी से राज्यपाल को दी गई चिट्ठी मांगी है, वहीं कांग्रेस-जेडीएस से विधायकों की लिस्ट लाने को कहा है।

++++-------------–-------------------http://www.hindustansavera.com/nationalnewslistone.php?id=148---------------

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भाजपा पर जमकर बरसे, और कहा कि बीजेपी लोकतंत्र के सभी संस्थानों की हत्या कर रही है, और यह पार्टी किसानों व महिलाओं के खिलाफ है। शिवसेना के संजय राउत ने कहा कि बीएस येदियुरप्पा ने शपथ ली है लेकिन बहुमत साबित करना मुश्किल होगा। राज्यपाल को उन लोगों को बुलाया जाना चाहिए जिनके पास अधिकतम संख्या थी। जब ऐसा होता है तो लोग कहते हैं लोकतंत्र की हत्‍या हो गई, लेकिन जब देश में लोकतंत्र बचा ही नहीं तो हत्‍या किसकी होगी।