पीएम मोदी के मंत्री अठावले बोले, अगर मंदिर पर फैसला लिया जाता है तो, मस्जिद पर भी फैसला अविलंब होना चाहिए

पीएम मोदी के मंत्री अठावले बोले, अगर मंदिर पर फैसला लिया जाता है तो, मस्जिद पर भी फैसला अविलंब होना चाहिए

दिल्ली। अयोध्या मसले पर सुनवाई की तारीख को जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट ने आगे बढ़ाया है उसके बाद एक बार फिर से इस मुद्दे पर राजनीति शुरू हो गई है। तमाम भाजपा नेता कोर्ट के फैसले के खिलाफ खुलकर बोल रहे हैं। लेकिन इन सबके बीच एनडीए के सहयोगी और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने अयोध्या मसले पर अपनी जुदा राय सामने रखी है। अठावले ने कहा कि हमारी पार्टी का मानना है कि हिंदुओं और मुसलमानों के बीच एकता में किसी भी तरह की दिक्क्त नहीं होनी चाहिए।

अठावले ने कहा कि अगर राम मंदिर निर्माण को लेकर कोई फैसला लिया जाता है तो मस्जिद निर्माण को लेकर भी कोई फैसला जरूर किया जाना चाहिए। मुझे लगता है कि अध्यादेश लाने की जो मांग हो रही है वह सही नहीं है। आपको बता दें कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोर्ट के फैसले के बाद कहा था कि देश का बहुसंख्यक समाज चाहता है कि इस पर जल्दी सुनवाई हो। उन्होंने कहा कि कई बार देरी से मिला न्याय अन्याय के समान होता है। हम सभी इस पर विचार कर रहे हैं, कोई न कोई रास्ता जरूर निकलेगा।*

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश की शांति के लिए और विकल्प हो सकते हैं, उन पर विचार करना चाहिए। अच्छा होता अगर सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर निर्णय दे देता लेकिन अभी संभावना नहीं दिख रही। बता दें कि अयोध्या विवाद* *मामले की तत्काल सुनवाई को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि जरूरी नहीं है कि मामले की सुनवाई जनवरी में ही हो, इसकी सुनवाई जनवरी, फरवरी या फिर मार्च में भी हो सकती है। अयोध्या मामले की सुनवाई कौन सी बेंच करेगी, इसे लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है।