रिलायंस ला रही है दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-ऑफलाइन प्लेटफाॅर्म

रिलायंस ला रही है दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-ऑफलाइन प्लेटफाॅर्म

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज अब ऑनलाइन मार्केट में चीन की अलीबाबा तो अमेरिका की अमेजन को टक्कर देने की तैयारी में है। जल्द ही रिलायंस इंडस्ट्रीज कारोबार के लिए दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-ऑफलाइन प्लेटफॉर्म लेकर आएगी। सोमवार को मेक इन उड़ीसा कॉन्क्लेव-2018 को संबोधित करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है कि कंपनी दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन-ऑफलाइन प्लेटफॉर्म तैयार कर रही है। जहां करीब 3 करोड़ कारोबारी अपना माल बेच सकेंगे।

रिलायंस अपने रिटेल स्टोर के जरिए बाजार में पहले से ही मौजूद है और कंपनी अब ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर भी अपनी मौजूदगी बड़े स्तर पर दर्ज कराने जा रही है। रिलायंस के प्लेटफार्म पर कई छोटे-बड़े व्यापारियों को व्यापार करने का मौका मिलेगा। रिलायंस के ई-काॅमर्स मार्केट में उतरने से अमेजन, अलीबाबा, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील जैसी पहले से जमी -जमाई कंपनियों को कड़ा मुकाबला मिलेगा। आॅनलाइन से आॅफलाइन माॅडल पर काम करने के कारण इसका फायदा छोटे दुकानदारों को होगा। मुकेश अंबानी ने कहा कि हम हाइब्रिड, ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन नए कॉमर्स प्लेटफॉर्म क्रिएशन में अपनी ग्रोथ देखते हैं। अंबानी ने इस काॅन्क्लेव को संबोधित करते हुए कहा ‘रिलायंस लोगों की जिंदगी को आसान बनाने और ओडिशा की लघु और मध्यम उद्योगों के लिए ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के एक्सेस के लिए काम कर रहा है।’

    ओडिशा में 3,000 करोड़ रु. निवेश की घोषणा

मेक इन ओडिशा के दूसरे दिन का बिजनेस लीडरशिप सेशन की शुरुआत हो गई है। इस मौके पर अंबानी बिजनेस लीडरशिप सेशन को संबोधित करते हुए ओडिशा में 3,000 करोड़ के निवेश की घोषणा की है। अंबानी ने कहा कि रिलायंस नए ओडिशा के सृजन के लिए करोड़ों के निवेश कर चुका है और लगातार कर रहा है।

          रोजगार को मिलेगा बढ़ावा

रिलायंस के प्रमुख ने कहा कि हम ओडिशा को डिजिटल के क्षेत्र में देश में सबसे आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ओडिशा में प्रति व्यक्ति डाटा का इस्तेमाल सबसे ज्यादा है।रिलायंस जियो गांव और शहरों को जोड़ने का काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि दुनिया में जिंदगी का हर क्षेत्र डिजिटल होने की ओर बढ़ रहा है। हमारा लक्ष्य ग्रामीण ओडिशा में शिक्षा और स्वास्थ्य को डिजिटली इंप्रूव करने का है। इससे यहां के युवा पीढ़ी के लिए रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ेगी।