कोरोना

कोरोना

-                     ---अंगद किशोर

         रोग बड़ा बर्बर लगता है

         चीख, पुकार,कहर लगता है।

         कहां चिपक जाए सीने से

         ये कहना दुष्कर लगता है।


         न जाने किस रूप में आए

         कहने में भी डर लगता है।

        एकबार जिसको लग जाए 

         जीवन उसे सिफ़र लगता है।


         देख तबाही के आलम को

         दिल कांपे थर-थर लगता है।

         सचमुच मौत का नंगा नाच

         सर्वनाशी मंजर लगता है।


         विषाणु को छोटा मत समझो

         यम का यह खंजर लगता है।

         दुनिया भर में तांडव मचा है

         हाथ लहू से तर लगता है।


         रोग चीन में जन्मा है,पर

         अमेरिका नैहर लगता है।

         लक्षण इसका अलग-अलग,पर

          सर्दी, खांसी,ज्वर लगता है।


          गाड़ी,बस या ट्रेन सवारी

          कोरोना का घर लगता है।

          जहां जाना है,जाओ मगर

          अबच न गांव-शहर लगता है।


          रोग का खतरा उसे अधिक है

          घर में वास ज़हर लगता है।

          उसे पकड़ता सबसे पहले

          जो तन से जर्जर लगता है।


          लाक-डाउन का पालन करना

          सबसे सुगम सफ़र लगता है।

          बाहर जाने में खतरा है

          सिर्फ सुरक्षित घर लगता है।


          दवा मर्ज़ की दूर-दूर रहना

          पालन ही बेहतर लगता है।

          क्या करेगा उसे कोरोना

          तबियत से जो तर लगता है।


          मौसम का बेमौसम आना

          आफ़त का मंजर लगता है।

          एक बात पूछूं कोरोना

          मौसम क्या शौहर लगता है?


          अंगद किशोर,वरीय शिक्षक, स्तरोन्नत उच्च विद्यालय कामगारपुर, हुसैनाबाद, पलामू, झारखंड,मो नं 8540975076