17 लाख की नशीली दवाइयों के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार, शहर के लॉज में रुका था बिहार का सरगना

अंबिकापुर. नशीली दवाओं के कारोबारियों के खिलाफ सरगुजा जिले में चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने नशे के  अवैध कारोबार में शामिल 1 अंतरराज्जीय सप्लायर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसके पास से १४ लाख रुपए की नशीली दवा व इंजेक्शन जब्त किया है। अंतरराज्जीय सप्लायर का लिंक सरगुजा, बलरामपुर, सूरजपुर जिले में भी जुड़ा हुआ है और यहां के नशे के अवैध थोक कारोबारियों के पास माल सप्लाई करता है। वह अंबिकापुर में नशीली दवा पहुंचाने आया था और 2 कार्टून नशीली दवा के साथ शहर के माया लॉज में रूका था। उसी की निशानदेही पर शहर के एक कारोबारी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इसके पास से 3 लाख रुपए की नशीली दवा व इंजेक्शन बरामद किया गया है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई कर जेल दाखिल कर दिया गया है।  पुलिस इसे अवैध नशीली दवाओं के कारोबार का जड़ मान रही है।
आईजी रतनलाल डांगी के निर्देश पर सरगुजा जिले में नशे के कारोबार करने वालों के खिलाफ पुलिस ने अभियान चला रखा है। पुलिस द्वारा मुखबिरों के माध्यम से लगातार इनके ठिकानों व आने-जाने वाले रास्ते पर दबिश दी जा रही है। इसी बीच पुलिस को मुखबिर से जानकारी मिली की ५० वर्षीय पप्पु उर्फ शिवशंकर बरनवाल पिता अर्जुन लाल निवासी सिविल लाईन गया, बिहार द्वारा नशीली दवाई की बिक्री अंबिकापुर एवं आस-पास के जिले में की जाती है। सीएसपी एसएस पैकरा ने बताया कि इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई। अधिकारियों द्वारा कार्रवाई के निर्देश मिलते ही सीएसपी तथा प्रशिक्षु डीएसपी लौकेश बंसल, उत्तम सिह एवं विशेष टीम प्रभारी सरफराज फिरदौसी के अलावा कोतवाली पुलिस द्वारा टीम गठित की गई। टीम को जानकारी मिली की नशीली दवाइयों का सप्लायर पप्पु उर्फ शिवशंकर शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित माया लॉज में रुका हुआ है। सूचना मिलते ही पुलिस की टीम ने लॉज में दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसके पास से 2 कार्टून नशीली दवा व इंजेक्शन भी जब्त की है। इसकी कीमत १४ लाख रुपए बताई जा रही है।