देश

Sahity

Gazal/Kavita

एक सूखी रोटी थी मेरी ।क्या तुम ने कहीं पर देखी है ?मैं घूम चुका बस्ती बस्ती ।मैं ढूंढ चुका खरिया ख...