329 Views

मंडल से विस्थापितों के साथ पदयात्रा के लिए जाने के दौरान गिरफ्तार हुए

मंडल से विस्थापितों के साथ पदयात्रा के लिए जाने के दौरान गिरफ्तार हुए 

के.एन त्रिपाठी समर्थकों के साथ 30 घंटे तक थाना में रहे कैद 

डालटनगंज, 5 जनवरी : लातेहार जिले के मंडल से विस्थापितों के साथ पदयात्रा शुरू करने जा रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के.एन त्रिपाठी एवं उनके समर्थकों को गिरफ्तार कर 30 घंटे तक बरवाडीह थाना में कैद रखा गया। कड़ाके की पड़ रही ठंड में श्री त्रिपाठी सहित अन्य कांग्रेसियों ने किसी तरह गर्म कपड़ों का प्रबंध कर थाना के कमरे में रात गुजारी। शनिवार की सुबह जब वे बरवाडीह थाना से जाना चाहे तो उन्हें निकलने नहीं दिया गया। इससे नाराज त्रिपाठी अपने समर्थकों के साथ थाना गेट पर दर्जनों समर्थकों के साथ धरना पर बैठ गए। 

सता और बंदूक के बल पर आवाज दबाना चाहती है केन्द्र एवं राज्य सरकार: त्रिपाठी 

थाना गेट पर धरना देते हुए श्री त्रिपाठी ने आरोप लगाया कि केन्द्र एवं राज्य की सरकार सत्ता और बंदूक के बदल पर विरोध में उठने वाली हर आवाज को दबाना चाहती है। इसके लिए सरकारी तंत्र खासकर पुलिस और सीआरपीएफ का दुरूपयोग किया जा रहा है। सरकार यह बताना चाहती है कि एक बार सत्ता में आने के बाद वह किसी कीमत पर इससे दूर नहीं हो सकती। इसके लिए चाहे किसी तरह का हिंसक कदम ही क्यों न उठाने पड़े? श्री त्रिपाठी ने कहा कि वे विस्थापितों के साथ पदयाात्रा करते हुए संवैधानिक तरीके से प्रधानमंत्री तक बात पहुंचाना चाहते थे, लेकिन एक साजिश के तहत उन्हें गिरफ्तार किया गया और फिर रात भर थाना में कैद करके रखा गया। शाम में आश्वासन दिया गया था कि उन्हें सुबह में जाने दिया जायेगा, लेकिन सुबह पुलिस पदाधिकारी अपनी बात से मुकर गए। लगातार थाना की चाहरदीवारी के भीतर बंद रखा गया।

अचार संहित के डर से हुआ मंडल परियोजना का शिलान्यास

श्री त्रिपाठी ने यह भी आरोप लगाया कि अगले महीने लोकसभा चुनाव को लेकर अचार संहिता लागू कर दी जायेगी। इसलिए आनन-फानन में मंडल परियोजना का शिलान्यास किया गया। यह पूरी तरह चुनावी है। चुनाव के समय शुरू होने वाली योजनाओं का कोई भविष्य नहीं होता। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भी कुछ इसी तरह का भविष्य नजर आ रहा है। अगली बार प्रधानमंत्री बनेंगे कि नहीं, संशय की स्थिति है।

विदित हो कि शुक्रवार की दोपहर बरवाडीह में पदयात्रा रोकने के बाद प्रशासन द्वारा के.एन त्रिपाठी सहित दर्जनों समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया था।