नये साल में चीफ जस्टिस को आमंत्रित करेगा पलामू अधिवक्ता संघ

                                      नये साल में चीफ जस्टिस को आमंत्रित करेगा पलामू अधिवक्ता संघ 

डालटनगंज, 3 दिसम्बर : पलामू जिला अधिवक्ता संघ की बैठक में नये साल 2019  में चीफ जस्टिस को आमंत्रित करने का निर्णय लिया गया। बैठक की अध्यक्षता संघ के अध्यक्ष   एस.एन. नेहरू ने  की, जबकि संचालन महासचिव सुबोध कुमार सिन्हा ने किया। 

मौके पर अध्यक्ष श्री नेहरू ने कहा कि हम सभी को मिलकर संघ को सशक्त करना हैं। अधिवक्ता कल्याण की राशि से सदस्यों को ज्यादा से ज्यादा लाभान्वित कराना है। बैठक में निगरानी कमिटी में शामिल सदस्यों को निर्देश दिया गया कि वे अपनी रिपोर्ट यथाशीघ्र सौपें।

बैठक में निर्णय लिया गया कि नहीं प्रैक्टिस करने वाले अधिवक्तों की सूचि तैयार की जाए। सभी सदस्यों से कहा गया कि वे अपने सुझावों को अपने नाम के साथ संघ कार्यालय में लगे सुझाव पेटी में दें। उस पर कार्यवाही की जाएगी। वर्ष 2019 में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित करने और उसमें चीफ जस्टिस को आमंत्रित करने का भी निर्णय लिया गया। 

बैठक में निर्णय लिया गया कि 31 दिसम्बर तक संघ के सभी सम्मानित सदस्यों को वर्ष 2019 की डायरी दी जाए, जिसमें सभी के नंबर व आवश्यक जानकारी होनी चाहिए। सदस्यों ने कहा कि सभी के लिए अनुशासन जरूरी है। सभी अपनी बातों को शालीनता के साथ रखें, उसपर विचार जरूर किया जाएगा। 

बैठक में मंधारी दुबे, दीपक कुमार, संतोष तिवारी, जयकिशोर पाठक, संजय कुमार पांडेय, नितिन पाण्डेय, दीपक कुमार, शंकर त्रिपाठी, मनमोहन सिंह, सुरेंद्र पाण्डेय, मधुलता रानी आदि शामिल थे।

                                                       विकास करने के लिए लगन और स्पष्ट नियत जरूरी:‘ राहिल राज 

डालटनगंज, 3 दिसम्बर : आज के समय में जब लोग मंगल ग्रह पर जा रहे हैं, देश सड़क निर्माण में रोज नए कृतिमान को गढ़ रहा है, ऐसे में जिले के पाटन प्रखंड अंतर्गत सिरमा पंचायत के कोइरियाडीह गांव के लोग पगडंडियों के सहारे आवागमन करने पर बाध्य हैं। उक्त बातें युवा आजसू नेता राहिल राज उर्फ प्रकाश राम ने कही। वे गांव में श्रमदान से सड़क निर्माण करा रहे थे। सड़क का अभाव झेल रहे कोरियाडीह में श्री राम ने ग्रामीणों के साथ श्रमदान किया और गांव तक जाने के लिए सड़क बनवायी। 

उन्होंने कहा आज जब नीचे से लेकर ऊपर तक एक ही विचारधार के लोगों की सरकार है और आए दिन समाचार पत्रों के माध्यम से सड़क निर्माण की जानकारी मिलती है तो मन क्षुब्ध हो जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि मनमाने तरीके से किये गए निर्माण कार्य से विकास नहीं हो सकता। विकास करने के लिये लगन और स्पष्ट नियत होना चाहिये, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि क्षेत्र के निर्वाचित प्रतिनिधि में दोनों चीजें नजर नहीं आती। 

श्रमदान करनेवालों में कमलेश तिवारी, सतीश तिवारी,फरीद मियां, सचिदानंद तिवारी, ललन तिवारी, महिम तिवारी, तिलकेश्वर सिंह, दिलीप सिंह, प्रदीप पांडेय, मनीष तिवारी, अभय पांडेय, बेचू सिंह, बबलू सिंह, राजेन्द्र तिवारी अन्य शामिल हैं।