पलामू: सुखाड़ का जायजा लेने शाम में पहुंची केन्द्रीय टीम, अंधेरे में टार्च जलाकर देखी खेतों की हालत, किसानों से की बात

पलामू: सुखाड़ का जायजा लेने शाम में पहुंची केन्द्रीय टीम, अंधेरे में टार्च जलाकर देखी खेतों की हालत, किसानों से की बात  

डालटनगंज, 7 दिसम्बर: सुखाड़ का आकलन करने के लिए चार सदस्यीय केन्द्रीय टीम आज  पलामू पहुंच गयी है। यह टीम शाम में डालटनगंज पहुंचने पर सबसे पहले चैनपुर प्रखंड क्षेत्र में गयी। चैनपुर के सलतुआ और खुरा गांव में सुखाड़ से उत्पन्न परिस्थतियों का जायजा लिया। पलामू जिले में सूखे की धरातली हकीकत जानने के बाद यही टीम आज रात गढ़वा के लिए रवाना हो जायेगी और वहां भी स्थलीय जांच कर सुखाड़ की रिपोर्ट तैयार कर केन्द्र सरकार को सौंपेगी। यह टीम दोनों जिले के अधिकारियों के साथ बैठक भी करेगी। 

राज्य में सुखाड़ का आकलन करने केे लिए केन्द्र की तीन टीमें झारखंड पहुंची हैं। पहली टीम पाकुड़ और दुमका में जबकि दूसरी टीम गिरिडीह और कोडरमा में सूखे का जायजा ले रही है। तीसरी टीम पलामू में है। पलामू आयी टीम में कृषि मंत्रालय के संयुक्त सचिव अतीश चन्द्रा के साथ तीन अन्य अधिकारी हैं। 

चैनपुर क्षेत्र का दौरा करते हुए टीम के सदस्यों ने किसानों से वस्तुस्थिति की जानकारी ली। टीम में शामिल अधिकारियों ने सिंचाई के स्त्रोतों की जानकारी ली। किसानों ने बताया कि उनके पास प्राकृतिक स्त्रोत के अलावा सिंचाई का कोई प्रबंध नहीं है। अगर समय पर अच्छी बारिश होती है तो खरीफ फसलों की संभावना बनती है और नहीं होने पर सुखाड़ की मार झेलनी पड़ती है कभी तैयार तो कभी शुरूआती दौर की फसलें मारी जाती हैं। 

किसानों ने टीम के सदस्यों को जानकारी दी कि शुरूआत में बारिश नहीं होने पर उन्होंने किसी तरह पटवन कर धान फसल के बिचड़े तैयार किये थे। कुछ खेतों में पटवन के सहारे बुआई की गयी थी और इस आस में थे कि बारिश होने पर फसल समय पर तैयार हो जायेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। कई खेतों में तैयार फसल पानी के अभाव में सूखकर नष्ट हो गए। अब उनके समक्ष पशुओं के लिए चारे के लाले पड़ते दिखायी दे रहे हैं। 

टार्च की रौशनी में देखा गया खेतों की हालत

देर शाम पहुंची केन्द्रीय टीम को फसलों की हालत देखने के लिए टार्च का सहारा लेना पड़ा। जिला मुख्यालय से सटे चैनपुर प्रखंड क्षेत्र में 8-10 किलोमीटर दूर जाने पर अंधेरा हो गया था। नतीजा टीम के सदस्यों को खेतों की वास्तविक हालत देखने के लिए टार्च जलानी पड़ी। जिले के कुछ कर्मियों ने मोबाइल भी जलाकर खेतों का अवलोकन कराया। 

कई जगहों पर बैठक कर ग्रामीणों से वार्ता की गयी। टीम के सदस्यों ने बताया कि किसानों से जानकारी लेकर स्थितियों के अनुरूप पूरी रिपोर्ट तैयार की जायेगी और केन्द्र सरकार को सौंपा जायेगा।

टीम के साथ पलामू के उपायुक्त शान्तनु अग्रहरी, जिला परिसद उपाध्यक्ष संजय सिंह समेत कई अधिकारियों ने सुखाड़ का लिया जायजा। चैनपुर के खुरा, गर्दा गांव में जायजा के बाद सतबरवा, विश्रामपुर, हैदरनगर भी टीम जाएगी। पलामू के बाद गढ़वा के लिए केंद्रीय टीम रवाना होगी। 

दिलीप कुमार, पलामू, 7.12.18.