पलामूः प्रधानमंत्री से ऊपर हुए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री, बिना शिलापट्ट लगाए कर दिया नहर का शिलान्यास

पलामूः प्रधानमंत्री से ऊपर हुए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री, बिना शिलापट्ट लगाए कर दिया नहर का शिलान्यास

 आरोप लगाते राहुल दुबे एवं अन्य कार्यकर्ता और मोहम्मदगंज भीम बराज पुल से निकली नहर 

पलामू 9 दिसम्बर: सूबे के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने पिछले दिनों एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में शामिल होकर केंद्र सरकार की योजना का आनन-फानन में शिलान्यास कर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का प्रयास किया है। झारखंड नवनिर्माण मोर्चा के मीडिया प्रभारी राहुल दुबे, गढ़वा के कांडी प्रखण्ड प्रभारी अंजनी कुमार, मोर्चा कार्यकर्ता और किसानों  ने आरोप लगाते हुए कहा कि पलामू-गढ़वा के बीच मोहम्मदगंज भीम बराज पुल से निकली बाई मुख्य नहर का स्वास्थ्य मंत्री द्वारा शिलापट्ट लगाए बगैर शिलान्यास कर दिया गया, जबकि फरवरी-मार्च-2019 में प्रधानमंत्री द्वारा इस नहर का शिलान्यास करने की योजना थी.

यह क्षेत्र झारखंड नवनिर्माण मोर्चा के प्रभावशाली क्षेत्रों में से एक रहा है. मोर्चा कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस इलाके में मोर्चा के अध्यक्ष अभिमन्यु सिंह द्वारा निजी खर्च से जनसरोकार की समस्याएं दूर की जाती हैं. केंद्र सरकार द्वारा लगभग 23 करोड़ की लागत से बांयी नहर की मरम्मत कराने की योजना है. उसका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फरवरी-मार्च में करना था। वर्ष 2013 में मोर्चा अध्यक्ष द्वारा निजी खर्च से इस नहर की मरम्मत करायी गयी थी. 

चन्द्रवंशी 14 साल से हंै, लेकिन आज तक नहीं करायी नहर की मरम्मत 

मोर्चा नेताओं ने आरोप लगाया कि विश्रामपुर विधानसभा से लगतार चुनाव जीतने आ रहे रामचंद्र चंद्रवंशी पहली बार राजद से 1995 में चुनाव जीते और बिहार सरकार में मंत्री भी रहे पर भीम बराज पुल से निकली नहर नहीं बनवा पाए। फिर 2004 में भी राजद से चुनाव जीते। पर उनका ध्यान क्षेत्र के विकास पर नहीं गया. जबकि 2006 से ही अपना कॉलेज जैसे महान साम्राज्य स्थापित कर लिए। पुनः 2014 के चुनाव जीतने के बाद मंत्री बने पर चार सालों में कभी भी कांडी प्रखण्ड में विकास कार्यो पर ध्यान नही दिए। वे हमेशा कहते रहे कि ‘कांडी-मझिआंव और बरडीहा की जनता ने हमें वोट ही नहीं दिया है तो मैं विकास क्यों करू।’ जबकि चुनाव नजदीक आते है नहर के नाम पर राजनीतिक रोटी सेंकने में लग गए हैं। लेकिन यह सर्वविदित है कि यह कार्य अभिमन्यु सिंह ने कराया है। 

5 सालों से हमेशा नहर की मरमत और पानी भेजता है मोर्चा

नहर को निजी खर्च से बनवाने के बाद से अब तक हर साल किसानों को 2000 हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होती है. अभिमन्यु सिंह ने इन 5 सालों में कई बार नहर टूटने पर निजी खर्च से मरमत भी करवाया है. पानी नहीं पहुचने पर बिहार का पानी बन्द कर पहले अपने किसानों भाइयों के खेत को सिंचित करने का काम भी कराते रहे है.

मौके पर कौन-कौन

मौके पर संतोष दुबे, दीपू गुप्ता, आदर्श सिंह, राजू गुप्ता, गायत्री देवी, धनकेसरी देवी, प्रेमी कुंवर, बीना देवी, शांति देवी, सुमन देवी, रीता देवी, समुंद्री देवी, संतरा देवी, पुष्पा देवी, सुनील पांडेय, कृष्णा चैहान, नंदू मेहता, श्यामनारायण मेहता, दिलीप चैहान, पप्पू पासवान, कृष्णा सोनी, मोहन सोनी, बिगन चैहान, धनंजय चैहान, जुगेवश्वर पासवान, ललन पासवान, सहित कई किसान उपस्थित थे.

दिलीप कुमार, पलामू, 9.12.18