नक्सलियों के खिलाफ पलामू पुलिस को मिली एक ओर बड़ी सफलता माओवादियों का सबजोनल कमांडर गिरफ्तार झारखण्ड व बिहार के कई बड़ी वारदातो का आरोपी है पांच लाख का इनामी मुखदेव समेत अन्य खबरें भी।

नक्सलियों के खिलाफ पलामू पुलिस को मिली एक ओर बड़ी सफलता

माओवादियों का सबजोनल कमांडर गिरफ्तार

झारखण्ड व बिहार के कई बड़ी वारदातो का आरोपी है पांच लाख का इनामी मुखदेव

मेदिनीनगर: पुलिस कप्तान इंद्रजीत महथा के नेतृत्व में पलामू जिले में नक्सलियों के खिलाफ चल रही पुलिसिया अभियान में पुलिस को एक ओर बड़ी सफलता मिली है। पलामू पुलिस एवं सीआरपीएफ 134 बटालियन की टीम ने एसपी को मिली सूचना  के आलोक में छापामारी कर हार्डकोर माओवादी सबजोनल कमांडर मुखदेव यादव को गिरफ्तार किया है। हार्डकोर नक्सली मुखदेव यादव की गिरफ्तारी पर सरकार द्वारा पांच लाख रुपये का इनाम घोषित था। उसकी गिरफ्तारी छतरपुर थाना के धोबीडीह गुलाबझरी के इलाके से हुई है। पकड़े गये माओवादी मुखदेव की उम्र लगभग 55 वर्ष है। वह पलामू के ही हरिहरगंज थाना क्षेत्र के गिद्धी गांव के परसडीह टोला का रहने वाला है। मुखदेव के खिलाफ छतरपुर व नौडीहा बाजार के अलावे बिहार के औरंगाबाद जिला के विभिन्न थानों में कई अपराधिक मामले दर्ज हैं। वह झारखण्ड-बिहार के आधा दर्जन से अधिक बड़े हमलों में शामिल रहा है। पुलिस को कई वर्षों से उसकी तालाश थी। पूरे मामले की जानकारी देते हुए एसपी इंद्रजीत महथा ने आज पत्रकारों को बताया की माओवादी मुखदेव यादव के छतरपुर थाना के गुलाबझरी इलाके में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की तैयारी में जुटे होने की सूचना मिली थी। इस सूचना के आधार पर अभियान एसपी अरूण कुमार सिंह के नेतृत्व में छतरपुर एसडीपीओ शंभू सिंह, सीआरपीएफ 134 बटालियन हरिहरगंज के सहायक कमांडेंट रूपेश कुमार, छतरपुर थाना प्रभारी एवं सैट टीम के साथ सूचित क्षेत्र की घेराबंदी की गयी और माओवादी सबजोनल कमांडर मुखदेव को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि पकड़ा गया मुखदेव जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में माओवादियों द्वारा किये गए विध्वंशक घटनाओं में शामिल रहा है। वह बिहार के मदनपुर एवं ढिबरा थाना क्षेत्र में मुठभेड़, विस्फोट आदि की घटनाओं में शामिल रहा है। वर्ष 2016 के जनवरी में ढिबरा थाना मंे पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मुखदेव के दस्ते के चार नक्सली मारे गए थे। एसपी ने बताया कि मुखदेव यादव वर्ष 2005 में संगठन में शामिल हुआ था। उसके संगठन में जाने का कारण अपनी ही गोतिया के साथ जमीन का विवाद रहा था। एसपी ने बताया कि वह पिछले 12 वर्षों से माओवादियों के गुरिल्ला दस्ता में सक्रिय था। वर्तमान में वह सबजोनल कमांडर के पद पर काम कर रहा था। पलामू के बिहार से जुड़े इलाकों में संगठन का विस्तार कर रहा था। उन्होंने बताया कि मुखदेव का कार्यक्षेत्र बिहार के देव, औरंगाबाद, करमलेवा व परसलेवा आदि क्षेत्र रहा है।

अविनाश देव की पहल से माटी कला उद्योग के दिन बहुरने के आसार बढ़े

उपायुक्त ने माटीशिल्प उद्योग के लिए किया जमीन का निरीक्षण

मेदिनीनगर: झारखण्ड माटी कला बोर्ड के सदस्य अविनाश देव की पहल रंग लाने लगी है। पलामू में माटी कला उद्योग स्थापित करने की प्रशासनिक कवायदे शुरू हो गयी हैं। इसी सिलसिले में आज जिले के उपायुक्त डाॅ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने माटी कला बोर्ड के सदस्य अविनाश देव के साथ सदर प्रखण्ड के पोखराहा (मेडिकल काॅलेज के पास) में माटी कला उद्योग के लिए प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने माटीशिल्प से जुड़े कुम्हार परिवारों से भी मुलाकात की। कहा कि माटी कला पर आधारित उद्योग स्थापित कर चार से पांच हजार माटी शिल्पकारों को 30 से 40 हजार रुपये प्रतिमाह कमाने लायक बनाया  जा सकता है। उन्होंने रोजगार के साथ-साथ मिट्टी के बर्तनों के उपयोग को बढ़ावा दिये जाने से स्वास्थ्य व पर्यावरण की सुरक्षा होने की बात कही। उन्होंने कहा कि कुम्हार परिवार की महिलाओं को समूह के माध्यम से घर बैठे रोजगार मिलेगा तो महिलायें स्वावलंबी बनेगी। उन्होंने स्थल निरीक्षण के बाद माटी कला उद्योग के लिए उपयुक्त बताते हुए कहा कि यहां जल्द निर्माण का काम शुरू किया जायेगा। इस दौरान स्थल दिखाने गए ज्ञानी पंडित ने आश्वस्त किया कि उद्योग लगाने में जितनी भूमि की जरूरत होगी वे अपनी तरफ से देंगे। मौके पर ललन प्रजापति, शोभा प्रजापति, विनोद प्रजापति आदि उपस्थित थे। गौरतलब हो कि माटी कला बोर्ड का सदस्य बनने के बाद से ही श्री देव ने पलामू में माटी कला उद्योग को पुनस्र्थापित करने की पहल शुरू की है। वे लगातार इस दिशा में समारोह व कार्यक्रमों के माध्यम से प्रयासरत हैं। अब उनका प्रयास रंग भी दिखाने लगा है। इससे जिले के खासकर कुम्हार परिवारों में खुशी के साथ-साथ पुराने उद्योग को एक बार फिर से पुरस्र्थापित होने की आश जगी है।

माईंस के खिलाफ ग्रामीणों ने दिया धरना

मेदिनीनगर: भलही माईंस को चालू कराये जाने के खिलाफ भाकपा माले के नेतृत्व में उक्त गांव के ग्रामीणों ने आज समाहरणालय परिसर में धरना दिया। इस दौरान ग्रामीणों ने माईंस संचालक अंजनी कुमार व उनके कर्मचारियों द्वारा गांव वालों के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराने एवं प्रशासन की मौजूदगी में फायरिंग कराने का आरोप लगाया। धरना सभा को संबोधित करते हुए माले नेताओं ने कहा कि सात माह पूर्व ही दंतटूटा के भलही टोला के ग्रामीणों ने आंदोलन कर भहली में चलने वाले अंजनी कुमार के क्रशर माईंस को बंद करा दिया था क्योंकि यह माईंस गांव से महज 30 मीटर की दूरी पर स्थित था। माईंस के धमाके से ग्रामीणों के घर गिर रहे थे। पर्यावरण को भारी नुकसान हो रहा था। पत्थर के टुकड़ों से इंसान व मवेशी घायल हो रहे थे। कृषि पर प्रतिकुल प्रभाव पड़ा था। पेयजल की भी समस्या उत्पन्न हो गयी थी। इसके बावजूद फिर से माईंस को शुरू करा दिया गया। जब ग्रामीणों ने विरोध किया तो माईंस संचालक द्वारा पुलिस की मौजूदगी में ग्रामीणों के साथ मारपीट की गयी। झूठे मुकदमे दर्ज करायी गयी। ग्रामीणों ने उक्त माईंस को अविलंब बंद कराने की मांग की। मौके पर भाकपा माले के रवीन्द्र भुईयां, सरफराज आलम, आइसा के इजहार अली हैदर, अविनाश रंजन, दिव्या भगत, रसोईया संघ की अनिता देवी, देहाड़ी मजदूर संगठन के राजीव कुमार, गौतम कुमार, ग्रामीण जग्गू कुमार, जयराम कुमार, वसंती देवी, कपिल प्रजापति, ललन प्रजापति आदि उपस्थित थे। बाद में उपायुक्त के निर्देश पर सदर एसडीओ ने ग्रामीणों से बात कर धरना को समाप्त कराया।

प्रशिक्षु एएनएम की हत्या

हुंटार जंगल में मिली लाश, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

चैनपुर: रामगढ़ थाना क्षेत्र के हुंटार जंगल से आज सुबह एक युवती का शव मिलने से एकबारगी इलाके में सनसनी फैल गयी। शव का चेहरा बुरी तरह कुचला हुआ था। सूचना मिलते डीएसपी सुरजीत कुमार के नेतृत्व में पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। जांच शुरू हुई तो शव की शिनाख्त 24 वर्षीय फुलेना टोप्पनो के रूप में हुई। वह हुंटार से सटे लातेहार जिला के बरवाडीह थाना क्षेत्र की निवासी थी। छानबीन के बाद डीएसपी सुरजीत कुमार ने बताया कि फुलेना (मृतका) लोहरदगा में रहकर एएनएम का प्रशिक्षण ले रही थी। वह लोहरदगा से मंगलवार को अपने घर आयी थी। घर से वह बरवाडीह बाजार के लिए निकली थी। उन्होंने बताया कि वह पैदल ही अपने घर जा रही थी। इसी दौरान अज्ञात अपराधियों द्वारा उसकी हत्या कर दी गयी है। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्ट्या यह आपसी दुश्मनी में हत्या का मामला प्रतीत होता है। वैसे पोस्टमार्टम के बाद ही सबकुछ साफ हो सकता है। उधर स्थानीय लोग दुष्कर्म के बाद फुलेना की हत्या किये जाने की बाते कर रहे हैं। फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है। डीएसपी ने जल्द ही हत्या में शामिल अपराधियों को पकड़ लेने का दावा किया है।

होमगार्ड के जवानों ने काला बिल्ला लगाकर जताया विरोध

मेदिनीनगर: झारखण्ड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन की पलामू जिला इकाई के बैनर तले जिले के गृहरक्षकों ने आज सरकार द्वारा उनकी तीनसूत्री मांगों को नहीं मानने के विरोध में काला-बिल्ला लगाकर काम किया। जानकारी देते हुए एसोसिएशन के जिला सचिव ऋषि लेश्वर सिंह ने बताया कि उनकी मांगों में झारखण्ड राज्य के गृहरक्षकों की ड्यूटी सुनिश्चित करने, अन्य राज्यों की तरह सामान काम का सामान वेतन देने एवं अकारण बर्खास्त जवानों की सेवा वापस करना शामिल है। उन्होंने बताया कि उनकी उक्त मांगे सरकार नहीं मान रही है। इसी के विरोध में केन्द्रीय कमिटी के निर्देश पर आज होमगार्ड के जवानों ने काला-बिल्ला लगाकर शांतिपूर्ण ढंग से अपना विरोध जताया है।

अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार में सतीश के शोध की हुई सराहना

मेदिनीनगर: पलामू प्रमण्डल के महुआडाड़ में स्थित संत जेवियर काॅलेज में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार में पलामू के एकेएस काॅलेज जपला के सहायक प्राध्यापक सतीश प्रसाद ने ‘एसेन्टीयलिटिज आॅफ बायोलाॅजी इन हायर एजुकेशन फाॅर प्रिजर्विंग एण्ड नेचुरल रिसोर्सेज’ विषय पर आधारित अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया। श्री प्रसाद का यह शोध पत्र दैनिक जीवन से जुड़े होने के कारण सेमिनार में मौजूद देश व विदेश के प्राध्यापकों द्वारा काफी सराहा गया। इस अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार के मुख्य पैर्टन मेलबर्न इनवरसिटी के ग्रांट स्टेफन बकलर एवं शैली बोडो ने श्री प्रसाद के शोध की काफी सराहना की और शोध पत्र से संबंधित कई सवाल भी पूछे।  अन्य प्राध्यापक व छात्रों द्वारा भी सवाल किये गए, जिसका जवाब देकर प्रो. सतीश ने सराहना पायी। इस दौरान प्रो. सतीश द्वारा अपने शोध पत्र पर ओरल  प्रेजेन्टेशन भी दिया गया।