आरपी सामाजिक संस्था ने चलाया जागरुकता अभियान, बेटी नहीं बचाओगे तो, बहु कहां से लाओगे


                                   बेटी नहीं बचाओगे तो, बहु कहां से लाओगे

                     बच्चि के जन्म पर संस्था माता-पिता को करेगा सम्मानित

पलामूः हैदरनगर की सामाजिक संस्था रचनात्मक प्रगतिषील सामाजिक संस्था ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत केवाल गांव में ग्रामीणों के बीच जागरुकता अभियान चलाया। संस्था के अध्यक्ष समीर हुसैन ने कहा कि हमे बहु चाहिए, मगर बेटी से हम कतराने लगे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सभी लोग बेटियां नहीं चाहने लगे,तो वह अपने लड़कों के लिए बहु कहां से लायेंगे। उन्होंने कहा कि सभी लोग अपनी बेटी,पत्नी के इलाज के लिए महिला चिकित्सक की जरुरत महसूस करते हैं। मगर खुद बेटी के जन्म पर आंसू बहाते हैं। आज पलामू की स्थिति काफी खराब है। देष स्तर पर एक हजार पुरुष पर 940 महिलायें हैं। जबकि पलामू में एक हजार पुरुश के मुकाबले सिर्फ 928 महिलायें हैं। जो काफी चिंता का विशय है। सचिन पासवान ने कहा कि बेटियों की पैदाईष पर हमे खुष होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी धमौ्रं में बेटियों की पैदाईष को बेहतर बताया गया है। हिन्दु धर्म में बेटी का जन्म लक्ष्मी के रुप में जबकि इस्लाम में इसे रहमत माना गया है। फिर हम बेटियों के जन्म पर क्यो उदास होते हैं। उन्होंने कहा कि आज बेटों से किसी बात में बेटियां कम नहीं हैं। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ मुहिम को आगे बढ़ाने की षपथ दिलाई गई। संस्था के पदाधिकारियों ने कहा कि यह अभियान गांव गांव में चलता रहेगा। मौके पर आमीर जफर, नितेष पासवान, समाज सेवी अली असगर खां, वार्ड सदस्य सबीहा बानो के अलावा लाजो बिवी, हसबुन बिवी, मेहंदी आलम, इनजमाम अली, मिनहाल हैदर, वसीम अहमद, इरफान खान आदि उपस्थित थे।