उपायुक्त ने पलामू की प्रगति की पुस्तक का किया अनावरण

उपायुक्त ने पलामू की प्रगति की पुस्तक का किया अनावरण

चार वर्षांे में जिले में किये गए विकास कार्यों का डीसी ने प्रस्तुत किया रिपोर्ट कार्ड 

रघुवर सरकार के कार्यकाल में अंतिम व्यक्ति तक विकास का लाभ पहुंचाने का चल रहा प्रयास: डीसी 

मेदिनीनगर: झारखंड सरकार के सेवा, सम्मान व सुशासन के चार वर्ष पूरा होने के अवसर पर पलामू के उपायुक्त डाॅ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने आज समाहारणालय के सभा कक्ष मंे पलामू जिले के प्रगती पर आधारित पुस्तक का अनावरण किया। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए उपायुक्त डाॅ. अग्रहरि ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार के चार वर्ष का कार्यकाल पूरा होने पर सरकारी योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिला अंतगर्त सरकार के विकास कार्यक्रमों में सभी की भागीदारी के बाद भी कमियों एवं चुनौतियों को अवसर के रूप में देखते हुए विभिन्न क्षेत्रों में आमूल चूल परिवर्तन किया गया है। उन्होंने बताया कि पलामू जिला को 115 आकांक्षी जिला में शामिल किया गया हैै। जिसके तहत 49 संकेतक चिन्हित करते हुए कुल छह प्रक्षेत्रों में आमूल परिवर्तन लाने का संकल्प लिया गया है। पलामू जिला में मार्च 2018 से लेकर विभिन्न प्रक्षेत्र के संकेतक में व्यापक रूप से सुधार किया गया है। देश के 115 अकांक्षी जिलों में नीति आयोग द्वारा मूल्यांकन के बाद प्रकाशित डेल्टा रेकिंग में सुधार करते हुए तीन माह में पलामू 72वें स्थान से 49वंे स्थान पर आ गया है। उन्होंने बताया कि पलामू में विगत चार वर्षों में विभिन्न प्रक्षेत्र की योजनाओं के कार्यान्वयन में 6,150 करोड़ रुपये खर्च करते हुए निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिले में 51,601 आवास निर्माण के लक्ष्य के विरूद्ध 43,300 आवास का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है। 2022 तक वंचित लाभुकों को आवास उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर योजना के तहत 480 आवास बनाये गए है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत 2,21,444 शौचालय का निर्माण किया गया है। 18 वृहद ग्रामीण पेयजल आपूर्ति योजना का निर्माण कराया जा रहा है। मनरेगा के तहत चार वर्ष में 6,011 डोभा एवं 1,077 सिचांई कुप का निर्माण हुआ है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में जिले में मेडिकल काॅलेज की स्थापना की गई है। बिजली के क्षेत्र में एक पावर ग्रीड का निर्माण किया गया है। राज्य सरकार द्वारा जिले में 12 सबस्टेशन का निर्माण किया जा रहा है। लगभग 4,21,000 परिवारों को विद्युत कनेक्शन दिया जा रहा है। उज्जवला योजना के तहत 1,89,187 महिलाओं को लाभ दिया गया है। पीटीजी डाकिया योजना के तहत 4,437 परिवारों को उनके घर तक खाद्यान उपलब्ध कराया जा रहा है। महिलाओं के स्वावलंबन के लिए 11,365 सखी मंडल का गठन किया गया है। उपायुक्तों ने बताया कि राष्ट्रीय उच्च पथ एवं राज्य उच्च पथ द्वारा जिले में 360 किमी. सड़क का निर्माण किया गया है। पीएम सड़क योजना एवं राज्य संपोषित के तहत 122 पथों का निर्माण किया गया है। गांव को मुख्य पथ से जोड़ने के लिए विशेष केंद्रीय सहायता योजना से 30 किमी. सड़क एवं 26 पुल का निर्माण कराया गया है। उपायुक्त ने सिचाई, शिक्षा, कल्याण, सामाजिक सुरक्षा, जिला ई-गर्वनेंस, पंचायत भवन, समाज कल्याण एवं पर्यटन एवं खेलकुद के क्षेत्र में पिछले चार वर्षों में किये गए कार्याें से जूड़ी रिपोर्ट कार्ड भी प्रस्तुत किये। मौके पर उपविकास आयुक्त बिन्दु माधव प्रसाद सिंह, एवं हैदर अली समेत कई पदाधिकारी उपस्थित थे।