नक्सलियों के रेड कॉरिडोर पथरा में डीजीपी ने बितायी रात, बनी नक्सलियों के खिलाफ ठोस रणनीति

नक्सलियों के रेड कॉरिडोर पथरा में डीजीपी ने बितायी रात, बनी नक्सलियों के खिलाफ ठोस रणनीति 

पलामू, 9 जनवरी: नक्सलियों के लिए रेड कॉरिडोर माने जाने वाले जिले के हरिहरगंज प्रखंड अंतर्गत पथरा में दो दिनों तक डीजीपी डी.के पांडेय रूके। उनके साथ एडीजी ऑपेरशन मुरारी लाल मीणा, सीआरपीएफ डीआईजी जयन्त पॉल, पलामू डीआईजी विपुल शुक्ला, एसपी इन्द्रजीत माहथा, सीआरपीएफ 134 बटालियन के कमांडेंट एडी शर्मा भी थे। इस दौरान डीजीपी ने जहां ग्रामीणों के साथ संवाद स्थापित किया, वहीं बिहार के देव थाना क्षेत्र अंतर्गत और चतरा जिले में हाल के दिनों बढ़ी नक्सल गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए वृहद रणनीति तैयार की।

इस मौके पर डीजीपी ने कहा कि विकास के लिए जागरूकता जरूरी है। बिना जागरूक हुए विकास की किरण द्वार तक नहीं पहुंच सकती है। इसलिए हमें सरकार के द्वारा जो कोई भी योजनाएं चलाई जा रही है, उसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए। श्री पांडे मंगलवार को पथरा पिकेट पहुंचे थे। उन्होंने रात्रि प्रवास पथरा पिकेट पर हीं किया। सुबह जवानों के साथ वॉलीबॉल खेलने के साथ साथ उन्हें सुरक्षा के कई टिप्स भी दिए। 

उन्होंने नक्सली अभियान में जुटे जवानों को हौसला अफजाई की। बाद में जवानों के साथ बैठक कर नक्सली अभियान की समीक्षा की। डीजीपी के निर्देश पर ही दूसरे दिन भी प्रशासन आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन छतरपुर एसडीओ भोगेन्द्र ठाकुर की अध्यक्षता में किया गया, जिसमें बड़ी संख्या में आसपास के लोग पहुंचे। इस कार्यक्रम के जरूरतमंद लोगों ने विधवा पेंशन, आवास सहित अन्य मांगों से संबंधित आवेदन दिया। खड्गपुर पंचायत की मुखिया पुष्पा देवी ने हड़ियाही डैम के फाटक गिराने की मांग की। उन्होंने कहा कि इस डैम के फाटक गिरने से किसानों को काफी लाभ पहुंचेगा। 

ग्रामीणों ने खुलकर रखी समस्याएं

कार्यक्रम के तहत ग्रामीणों ने अपनी समस्याएं खुलकर डीजीपी के समक्ष रखी। उन्होंने सिंचाई साधन नहीं रहने से होने वाली समस्याओं के बारे में भी बताया। डीजीपी ने कहा कि इस क्षेत्र में विकास की अनेक संभावनाएं हैं। यदि लोग खेती करें तो उन्हें काफी लाभ मिलेगा। सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था करें। सब्जी की खेती करें। यदि सब्जी के अच्छे उत्पादन करते हैं तो वे लोग पिकेट में भी आपूर्ति कर इसका लाभ कमा सकते है। साथ ही मधु पालन करके भी लोग इसका लाभ उठा सकते हैं।

सड़क निर्माण में सुस्ती का आरोप 

डीजीपी ने ग्रामीणों की कई अन्य समस्याओं को भी सुना। बराज से पथरा पिकेट होते हुए बेला घाट तक धीमी गति से रोड निर्माण कार्य की जानकारी दी गयी। इस पर संबंधित संवेदक व कार्यपालक अभियंता देवशरण भगत को जल्द पूरा करने का निर्देश दिया गया। गिधि चिरैली में बिजली नहीं पहुंची है, इसकी शिकायत भी लोगो ने की.

मौके पर डीआईजी विपुल शुक्ला, पलामू एसपी इंद्रजीत महाथा, एएसपी अरुण कुमार सिंह, डीएसपी शंभू कुमार सिंह, प्रमुख संतोषिया देवी, पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी वंश नारायण सिंह, ओपी प्रभारी संजय कुमार तिगा, पिकेट प्रभारी मोहम्मद इशाऊल अली, मुखिया युगेश सिंह, समाजसेवी जितेंद्र मेहता, पूर्व मुखिया सुरेश चैधरी, अरुण कुमार सिंह, शिव रजक, प्रदीप कुमार सिंह, सोनू जायसवाल सहित कई लोग मौजूद थे।