ईमानदारी से किया गया प्रयास कभी व्यर्थ नहीं जाता : कुलपति

ईमानदारी से किया गया प्रयास कभी व्यर्थ नहीं जाता : कुलपति 

तीन दिवसीय एथलेटिक्स मीट संपन्न 

डालटनगंज, 11 जनवरी : नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डा. सत्येंद्र नारायाण सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय पढ़ाई के साथ खेल का माहौल विकसित करना चाहता है। विश्वविद्यालय के छात्र पढ़ाई के अलावा खेल के क्षेत्र में आगे बढ़ी इसलिए समय-समय पर खेलकूद गतिविधियों को आयोजित किया जा रहा है। इमानदारी से किया गया प्रयास पढ़ाई हो या खेल का क्षेत्र हो कभी भी व्यर्थ नहीं जाता है।

वे आज नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय के तत्वावधान में स्थानीय जीएलए कॉलेज के मैदान में आयोजित तीन दिवसीय एथलेटिक्स मीट के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। एथलेटिक्स मीट में विश्वविद्यालय के अंगीभूत कॉलेजों के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया था। श्री सिंह ने कहा कि पहले और अब के जमाने में काफी परिर्वतन आ चुका है। पहले अभिभावक अपने बच्चों को खेलकूद से दूर रखना चाहते थे। इसके पीछे स्पष्ट कारण था कि अभिभावकों को खेल में भविष्य नजर नहीं आता था। यह बात सच भी थी। लेकिन अब खेल के क्षेत्र में भी कैरियर बनया जा सकता है। जरूरत है बस सच्चे मन से प्रयास करने का। 

उन्होंने कहा कि दिल से और मन से किया गया प्रयास और मेहनत कभी बेकार नहीं जाता है। इसलिए खिलाड़ी बनना है तो मैदान में खूब पसीना बहाना होगा। अगर पढ़ाई के क्षेत्र में आगे जाना है तो मन लगाकर पढ़ाना होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय प्रतिभा को तराशने और सम्मान देने का काम कर रहा है। मौके पर विश्वविद्यालय के डीएसडब्ल्यूओ एन.के तिवारी, जी.एल.ए कॉलजे के प्राचार्य डा. वाई.जे खलखो, संजय मिश्रा, कमलानदं दुबे, चंद्रशेखर तिवारी सहित अन्य उपस्थित थे। 

एथलेटिक्स के तहत इन खेलों का हुआ आयोजन 

एथलेटिक्स प्रतियोगिता के सफल प्रतिभागी अगामी 17 से 21 जनवरी तक श्यामा प्रसाद मुखर्जी कॉलेज में आयोजित एथलेटिक्स प्रतियोगिता में भाग लेंगे। एथलेटिक्स मीट में 10 हजार मीटर, 100 मीटर, 200 मीटर, 700 मीटर, 1500 मीटर, 80 मीटर, गोला फेंक, भाला फेंक, डिसकस थ्रो, लॉग जंप, हाई जंप, शार्ट जंप में प्रतिभागियों ने भाग लेकर अपनी प्रतिभा को दिखाया।