धरना पर बैठे भलही के ग्रामीणों को मिला भाकपा का समर्थन

धरना पर बैठे भलही के ग्रामीणों को मिला भाकपा का समर्थन  

  मेदिनीनगर(पलामू) : छतरपुर थाना के भलही टोला में संचालित दंतटूटा स्टोन माइंस को बंद कराने एवं ग्रामीणों पर किये गए फर्जी मुकदमा को वापस लेने आदि मांगों को लेकर जिला समाहरणालय के समक्ष आदिवासियों का धरना मंगलवार को पांचवे दिन भी जारी रहा। 

   भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं ने धरना पर बैठे ग्रामीणों की मांगों का आज पुरजोर समर्थन करते हुए धरनास्थल पर संघर्षरत लोगों से मुलाकात किया।उनकी मांगों का समर्थन करते हुए भाकपा के  वरीय नेता सूर्यपत सिंह एवं जिला सचिव रुचिर तिवारी ने कहा कि खनन एवं प्रदूषण विभाग के सारे नियमों को ताक पर रखकर खनन पट्टा दिया गया है। खनन कार्य से गांव में रहना काफी कष्टकर हो गया है। प्रदूषण से सांस लेने में समस्या, ब्लास्ट के कारण जल स्तर नीचे जाना, मवेशियों व ग्रामीणों को पत्थरों से चोट लगना, खेती लायक जमीन धूल होना व हाइवा की वजह दुर्घटना आम बात हो गई है। प्रदूषण की वजह से पिछले एक साल में कई लोगों की असमय मौत हो गयी है। भाकपा नेताओं ने आरोप लगाया कि पूंजीपतियों की मिलीभगत से प्रशासन द्वारा गरीब आदिवासियों को उजाड़ने की साजिश की जा रही है। 

   प्रशासन की असंवेदनशीलता पर चिंता प्रकट करते हुए भाकपा के जिला सचिव श्री तिवारी ने पलामू के उपायुक्त को पत्र लिखकर अविलंब ग्रामीणों की जायज मांगों को पूरा करते हुए धरना समाप्त कराने का आग्रह किया है।पत्र के माध्यम से कहा है कि केवल दिखावे के लिए जनता दरबार करने की बजाय दरवाजे पर बैठे जनता की बात सुनकर उसका निदान करें उपायुक्त।तभी जिले का वास्तविक विकास होगा।रघुबर सरकार के पूंजीपतियों के विकास का प्रचार करने से कुछ नहीं होने वाला है।