पुरातात्विक महत्व के गांव सजवन में प्राचीन काल के अवशेष मिले

           पुरातात्विक महत्व के गांव सजवन में प्राचीन काल के अवशेष मिले


पलामू जिले के हैदरनगर प्रखंड के पुरातात्विक महत्व के गांव सजवन में स्थित गढ़ से प्राचीन काल के बुद्ध की खंडित मूर्ति, गणेश की समूची मूर्ति, मृदभांड के टुकड़े, पत्थर के औजार, रिंग वेल आदि मिलें हैं।सोन नदी के दक्षिणी तट पर अवस्थित गढ़ की ऊंचाई सोन नदी के तल से लगभग तीस फीट है। ग्रामीणों के अनुसार गढ़ सात एकड़ में फैला है।

       उक्त आशय की जानकारी सोन घाटी पुरातत्व परिषद के अध्यक्ष अंगद किशोर एवं सचिव तापस डे ने संयुक्त रूप से पत्रकारों को दी।टीम में शामिल अन्य लोगों में  मीडिया प्रभारी जफ़र हुसैन,सह सचिव ई रंजीत कुमार, अजीत कुमार एवं सोनाली उल्लेखनीय हैं।

         परिषद के पदाधिकारियों ने बताया कि बुद्ध की सिरकटी प्रतिमा काले पत्थर की है,जिसे गांव के लोग धावर गोरया कहकर पूजा करते हैं। गणेश की प्रतिमा विगत आठ साल पूर्व 93 वर्षीय एक ग्रामीण अर्जुन मिस्री को मिली थी। प्रतिमा लगभग चार इंच लम्बा पत्थर की है। पदाधिकारियों ने बताया कि सजवन के गढ़ से लगभग ढाई हजार साल पुराना उत्तर काली पालिश मृदभांड के रुपहले- सुनहले टुकड़े प्राप्त हुए हैं। मृदभांड के कतिपय टुकड़े इससे पूर्व के भी हैं।

         खरगड़ा ग्राम पंचायत के मुखिया नागेंद्र मेहता , जो सजवन गांव के निवासी हैं, ने सरकार से कबरा कलां की तरह सजवन में भी उत्खनन कराने की मांग की है ताकि यहां का छुपा हुआ इतिहास  प्रकाश में आ सके। सहयोग करने वाले अन्य ग्रामीणों में वीरेंद्र कुमार मित्र, हरिद्वार मेहता, विष्णु शर्मा आदि शामिल थे।