स्वास्थ्य व्यवस्था वेंटिलेटर पर, निजी कारोबार बढ़ाने में लगे मंत्री

पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रामचन्द्र चन्द्रवंशी पर साधा निशाना

स्वास्थ्य व्यवस्था वेंटिलेटर पर, निजी कारोबार बढ़ाने में लगे मंत्री 

डालटनगंज, 16 जनवरी  2019 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी को जमीनी स्तर पर मजबूत करने के लिए झामुमो द्वारा संघर्ष यात्रा की शुरूआत की गयी है। संघर्ष यात्रा के तहत गढ़वा के बाद पलामू जिले में लगातार जनसभा की जा रही है। इस दौरान पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन लगातार राज्य की रघुवर सरकार और उनके मंत्रियों पर हमला बोल रहे हैं और कथित गलत नीतियों को जनता के बीच रखने का प्रयास कर रहे हैं। 

बुधवार की सुबह परिसदन में पत्रकारों से बात करते हुए श्री सोरेन में एक बार फिर रघुवर सरकार पर हमला बोला और उतर कोयल परियोजना (मंडल डैम) की खामियां गिनायी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडल डैम परियोजना का पूरा फायदा बिहार को पहुंचेगा और झारखंड में नीलाम्बर-पीताम्बर की धरती जलमग्न हो जायेगी। पानी हमारा और बिहार को पहुंचेगा फायदा। यह कभी होने नहीं दिया जायेगा। मंडल परियोजना को लेकर आदिवासियों में उबाल है। आदिवासी जान दे देंगे, लेकिन किसी कीमत पर परियोजना को शुरू नहीं होने देंगे। 

उन्होंने कहा कि राज्य में दो माह से पारा शिक्षक और मनरेगाकर्मी हड़ताल पर हैं। इनकी मांगों को पूरा कराने में सरकार की कोई दिलचस्पी नहीं है। मनरेगा की योजनाएं और स्कूलों की पढ़ायी बंद पड़ी है, लेकिन प्रवासी मुख्यमंत्री रघुवर दास की सरकार अपनी उपलब्धियां गिनाने से बाज नहीं आ रही। मध्याहन भोजन योजना में बच्चों की हक मारकर सरकार के मंत्री अपने निजी कारोबार को मजबूत कर रहे हैं। राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स की हालत नाजुक है। यूं कहें स्वास्थ्य सुविधाएं देने वाला अस्पताल खुद वेंटीलेटर पर है। इससे राज्य के स्वास्थ्य मंत्री की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा है। वे निजी कारोबार बढ़ाने में लगे हुए हैं। 

नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि पलामू को 24 घंटे बिजली देने के सरकार के वादे की हवा निकल गयी है। जिले में पहले की अपेक्षा बिजली आपूर्ति की स्थिति और खराब हो गयी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के चार वर्ष पूरे हो गए, लेकिन लोकहित में जितनी योजनाओं को लेकर सरकार आयी वह सिर्फ छलावा साबित हुई। इस दौरान मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों का चेहरा खूब चमका। किसानों की सुध लेने की कभी कोशिश की नहीं की गयी। गरीब भूख से मरते रहे, लेकिन सरकार मौत को आत्महत्या या फिर दूसरा कारण बताकर खुद को बचाती रही। 

मौके पर झामुमो के वरिष्ठ नेता मिथिलेश ठाकुर, केन्द्रीय सचिव डा. शशिभूषण मेहता, जिला अध्यक्ष राजेन्द्र सिन्हा सहित पार्टी के अन्य नेता एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

हेमंत ने लगाया जनचैपाल, दिए लोगों के सवालों के जवाब 

संघर्ष यात्रा की कड़ी में मंगलवार को जिले के हैदरनगर, हुसैनाबाद और छत्तरपुर में जनसभा करने के बाद रात में नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन डालटनगंज पहुंचे। यहां काफिले के साथ श्री सोरेन ने स्टेशन रोड स्थित भगवान बिरसा, छहमुहान पर देश के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद, सद्वीक चैक पर सुभाष चन्द्र बोस और अस्पताल चैक स्थित भगत सिंह की प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया। बाद में जगत कुटीर में जनचैपाल के जरिये लोगों से संवाद स्थापित किया और उनके सवालों के जवाब भी दिए। हेमंत सोरेन ने रघुवर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि रघुवर राज में चाहे पारा शिक्षक हो या मनरेगाकर्मी, या कोई अन्य अनुबंधकर्मी, सभी हड़ताल पर है, लेकिन हटयोगी सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता।