झारखंड - ईलाज के अभाव में खतरे मे है आदिम जाति युवक का भविष्य : अयुब खान

झारखंड - ईलाज के अभाव में खतरे मे है आदिम जाति युवक का भविष्य : अयुब खान 

लातेहार CPIM के वरिष्ठ नेता अयुब खान , पुर्व पंसस सदस्य फहमीदा बीवी के परिजनों से मुलाकात की, कहा है कि चंदवा प्रखंड के सांसद आदर्श ग्राम चटुआग का परहैया टोला निवासी परहैया जाती के दसवा परहैया का पुत्र सुरेंद्र परहैया मनिका के आदिम जनजाति अवासीय विद्यालय मे 5वीं कक्षा का छात्र है, पिछले वर्ष स्कुल मे फुटबॉल खेलने के वजह से दाएं हॉथ टुट गया था, उसके पिता दसवा परहैया किसी तरह कर्ज कर रिम्स रांची मे ऑपरेशन करवाया, चिकित्सकों ने ऑपरेशन कर हॉथ मे रड लगाकर छुट्टी कर दिया, 6 माह बाद हॉथ से रड निकालने के लिए उन्हें एक युनिट ब्लड के साथ रिम्स पुन: बुलाया गया, ऑपरेशन के एक साल हो गया है लेकिन युवक के हॉथ से अबतक रड नहीं निकाला गया है, पिता दसवा परहैया कि माली हालत खाफी खराब है , पैसा व एक युनिट ब्लड की व्यवस्था नहीं होने के कारण अपने पुत्र को ईलाज के लिए रिम्स नहीं ले जा पा रहे हैं , प्राईवेट हॉस्पिटल मे भी रड निकलवाने मे 14000 हजार रूपया खर्च है, समय से छह माह में रड नहीं निकलवाने के कारण उसका हॉथ सीधा नही हो पा रहा है, जख्म नहीं सुख रहा है, इसका पढ़ाई लिखाई भी छुट गया है, पिता को इसकी चिंता खाए जा रही है, ऑपरेशन कर रड नहीं निकलने से सुरेंद्र के शरीर में इंन्फेक्सन होने की संभावना है, और उसका भविष्य खतरे मे पड़ गया है, इसका ईलाज की व्यवस्था जल्द कराने की मांग पार्टी ने उपायुक्त से की है!