पलामू : बेटियों के जन्म पर मना उत्सव, माता-पिता हुए सम्मानित, उपायुक्त ने बेटियों के नाम पर लगाए पौधे

पलामू : बेटियों के जन्म पर मना उत्सव, माता-पिता हुए सम्मानित, उपायुक्त ने बेटियों के नाम पर लगाए पौधे 

पलामू 23 जनवरी : ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ सप्ताह के तहत पलामू जिले में हर दिन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं. इसी कड़ी में बुधवार को तीसरे दिन सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों में बेटियों के जन्म लेने पर उत्सव मनाया गया. जन्म देने वाली माताओं के साथ उनके पिता को सम्मानित किया गया. 

100 से अधिक बेटियों के परिजन हुए सम्मानित 

अभियान के तहत पता लगाया गया कि 21 से 23 जनवरी तक सरकारी और गैर सरकारी अस्पताल में कितनी लड़कियों का जन्म हुआ है. बाद में एक-एक करके सभी अस्पतालों में उत्सव मनाया गया और बच्चियों के माता-पिता को फूल माला पहनाकर अभिनंदन किया गया. एक अनुमान के अनुसार 100 से अधिक बेटियों के माता-पिता को सम्मानित किया गया. सदर अस्पताल में जिले के सिविल सर्जन डा. कलानंद मिश्रा और डीपीएम प्रवीण सिंह ने कई माताओं को बेटी होने पर हौसला बढ़ाया और उन्हें सम्मानित किया। साबुन, तेल, पाउडर, क्रीम सहित अन्य सामानों से संबंधित किट दिए. शहरी क्षेत्र में सदर अस्पताल के अलावा प्रकाशचंद जैन सेवा सदन में भी बेटियां के जन्म देने वाले माता-पिता को सम्मानित किया गया.

बेटियों के नाम पर समाहरणालय में लगे चार पौधे

उपायुक्त डा. शांतनु कुमार अग्रहरि  तथा अन्य पदाधिकारियों द्वारा पलामू समाहरणालय परिसर में बेटियों के नाम पर कुल चार पौधे लगाए गए तथा चारों पौधों का नामकरण किया गया. उपायुक्त द्वारा लगाये गए पौधे का नाम लक्ष्मी, उप विकास आयुक्त द्वारा लगाये गए पौधे का नाम सरस्वती, निदेशक एन.ई.पी. द्वारा लगाये गए पौधे का नाम सुकन्या और समाज कल्याण पदाधिकारी द्वारा लगाये गए पौधे का नाम समृद्धी रखा गया. वृक्षा रोपण करते हुए उपायुक्त ने कहा कि जैसे-जैसे ये पौधे बढ़ेंगे, वैसे ही जिले की बेटियां बढ़ेंगी तथा पलामू में सुख और समृद्धि आएगी. पौधों को संरक्षित रखने के लिए उनके चारों ओर लोहे की जाली लगा दी गयी है. 

स्कूल-कॉलेजों में भी हुआ पौधा रोपण

बेटियों के नाम पर कस्तूरबा विद्यालय और केजी बालिका $2 उच्च विद्यालय में भी पौधे लगाए गए. सेवा सदन के दामोदर वाटिका में भी पौधा रोपण किया गया. इस दौरान बेटी होने पर गर्व करने की बात कही गयी. बेटियां को बोझ नहीं है बल्कि आने वाले कल की भविष्य बताया गया.