झारखंड मे प्राथमिक शिक्षकों की होगी नियुक्ति, आप भी करें आवेदन

झारखंड मे प्राथमिक शिक्षकों की होगी नियुक्ति, आप भी करें आवेदन

झारखंड हाईकोर्ट के आदेश के बाद राज्य सरकार ने एक और काउंसिलिंग कराने का फैसला लिया है। टेट पास हजारों अभ्यर्थियों के लिए यह बड़ी राहत है

रांची,  ब्यूरो। प्राथमिक शिक्षक के लिए आवश्यक अर्हता प्राप्त युवाओं के लिए खुशखबरी है। वैसे अभ्यर्थी जो 2015-16 में प्राथमिक शिक्षकों की हुई नियुक्ति में चयन होने से वंचित हो गए थे, उन्हें एक और मौका मिलने वाला है। राज्य सरकार ने झारखंड हाई कोर्ट के आदेश पर प्राथमिक शिक्षकों की नियुक्ति में एक और काउंसिलिंग कराने का निर्णय लिया है। प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने  7384 रिक्त पदों को भरने को लेकर आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश सभी जिलों को दिया है।

इनमें कक्षा एक से पांच (प्राइमरी)व कक्षा छह से आठ (अपर प्राइमरी)दोनों के शिक्षक नियुक्त होंगे। वर्ष 2015-16 में जिला स्तर पर हुई कई काउंसिलिंग के बावजूद बड़ी संख्या में प्राथमिक शिक्षकों के पद रिक्त हो गए थे। इससे शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण हजारों अभ्यर्थी नियुक्ति से वंचित रह गए थे। अब कोर्ट के आदेश पर एक और काउंसिलिंग कराई जाएगी। जिलों को भेजे गए निर्देश में विभिन्न काउंसिलिंग में भाग लेने वाले वैसे अभ्यर्थी जिनका मूल शैक्षणिक व अन्य प्रमाणपत्र जिला कार्यालयों में जमा है उन्हें वापस करने को कहा गया है।

पूर्व में हुई अंतिम काउंसिलिंग की तिथि अंकित करते हुए काउंसिलिंग के बाद श्रेणीवार अंतिम चयनित अभ्यर्थी का कट ऑफ माक्र्स भी वेबसाइट पर प्रकाशित करने को कहा गया है। सभी चयनित तथा बिना चयनित अभ्यर्थी तथा काउंसिलिंग में भाग नहीं लेने वाले अभ्यर्थियों का श्रेणीवार ब्योरा तैयार कर निदेशालय को उपलब्ध कराने तथा पीडीएफ वेबसाइट पर एक सप्ताह के भीतर अपलोड करने तथा अखबारों के माध्यम से इसकी सूचना देने को कहा गया है। अपलोड ब्योरा पर ई-मेल के माध्यम से 15 दिनों के भीतर अभ्यर्थियों से आपत्तियां मांगी जाएंगी। इन आपत्तियों की जांच कर ब्योरा को अपडेट करने को कहा गया है।

गैर पारा में भी शामिल हो सकते हैं पारा शिक्षक

निदेशालय द्वारा जिलों को दिए गए आदेश के अनुसार डीपीई योग्यताधारी पारा शिक्षक जिस कोटि (पारा शिक्षक कोटा या गैर पारा शिक्षक) में आवेदन दिए हों उन्हें उसी कोटि में शामिल किया जाएगा। जिन पारा शिक्षकों को गैर पारा में आवेदन देने के कारण पूर्व में काउंसिलिंग से वंचित कर दिया गया था। उनको आवेदन करनेवाले कोटि में शामिल करने का निर्देश दिया गया है।

जो शामिल नहीं हुए थे उन्हें नहीं मिलेगा मौका

पूर्व में काउंसिलिंग के लिए चयन होने एवं बुलाने के बाद भी इसमें शामिल नहीं होने वाले अभ्यर्थियों को अब काउंसिलिंग का मौका नहीं मिलेगा। ऐसे अभ्यर्थियों को मेधा सूची में शामिल नहीं किया जाएगा।