कोर्ट के फैसले को ममता ने बताया नैतिक जीत, बोलीं- हम यही चाहते थे

कोर्ट के फैसले को ममता ने बताया नैतिक जीत, बोलीं- हम यही चाहते थे

धरने जारी रहेगा या नहीं इस सवाल पर उन्होंने कहा कि वह अपने नेताओं के साथ बात करने के बाद धरने पर फैसला करेंगी.

 कोर्ट के फैसले को ममता ने बताया नैतिक जीत, बोलीं- यही चाहते थे

सुप्रीम कोर्ट ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर को जांच के लिए सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया है, लेकिन उन्हें राहत भी दी है. कोर्ट ने सीबीआई से कहा है कि राजीव कुमार की अभी गिरफ्तारी नहीं की जा सकती. कोर्ट के इस फैसले का धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने स्वागत किया है. उन्होंने इस फैसले को अपनी नैतिक जीत बताया है.

कोर्ट का फैसला आने के बाद कोलकाता में धरने पर बैठीं ममता बनर्जी ने कहा कि हम कोर्ट के इस फैसले का सम्मान और स्वागत करते हैं. उन्होंने कहा कि हम यही चाहते हैं और यह हमारी नैतिक जीत है.

ममता ने कहा, 'यह हमारी मौलिक जीत है. यह आदेश पहले भी पास किया गया था कि एजेंसी आपस में बातचीत कर जांच करें. राजीव कुमार ने कभी नहीं कहा कि वह जांच में सहयोग नहीं करेंगे. राजीव कुमार ने खुद लिखा है कि आपस में बैठकर बातचीत करते हैं. लेकिन वह उन्हें बिना किसी नोटिस के गिरफ्तार करना चाहते थे.'ममता बनर्जी ने कहा कि सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार करना चाहती थी, लेकिन कोर्ट ने कहा दिया कि कोई गिरफ्तारी नहीं होगी. इसकी हमें खुशी है. हम इसका स्वागत करते हैं.

ममता ने आगे कहा, 'केंद्र और राज्य सरकार के अपने अपने दायरे हैं. हम एक- दूसरे के अधिकार क्षेत्र में दखल नहीं देते. हम यही चाहते थे. राजीव कुमार पहले ही पांच पत्र लिख चुके हैं कि मिलकर इस पर बात करते हैं. इस देश का बिग बॉस कोई व्यक्ति नहीं, बल्कि संविधान है.'