पांकी - पीपराटाड थाना क्षेत्र के ग्राम लोहरसी निवासी अजमत मियाँ द्वारा एक आदिम जनजाति नाबालिक छात्रा के साथ दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया है।

पांकी - पीपराटाड थाना क्षेत्र के ग्राम लोहरसी निवासी अजमत मियाँ द्वारा एक आदिम जनजाति नाबालिक छात्रा के साथ दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया है।प्राप्त जानकारी के अनुसार लावालौंग प्रखंड के ग्राम गेन्द्रा की रहनेवाली नाबालिक छात्रा रोज की भांति लोहरसी चटी से ट्यूशन पढ़कर अपने घर पैदल गेन्द्रा लौट रही थी इसी बीच लोहरसी निवासी अजमत मियां को पेशे से ड्राईवर है उसने कमांडर जीप से लड़की का पीछा किया ।रास्ते मे लड़की जैसे ही बनखेता जंगल पार कर रही थी उसी बीच अजमत मियाँ कमांडर जीप के साथ पहुंचा और लड़की को जंगल की ओर लेजाकर मुँह का ला किया।घटना के पश्चात लड़की शाम को घर पहुँचकर परिजनों को आप बीती सुनाई ।बुधवार को परिजन अजमत को बाजार में देखे जहां परिजनों ने दौड़ाकर पकड़ा और पीपराटाड थाना को सुपुर्द कर दिया।इस संबंध में पीपराटाड थाना प्रभारी गुलशन भेंगरा ने बताया कि पीड़िता नाइन्थ क्लास की छात्रा है।ट्यूशन पढ़कर लोहरसी से जब छात्रा अपने घर गेन्द्रा लौट रही थी इसी बीच सुनसान जंगल मे अजमत मियाँ ने घटना को अंजाम दिया।श्री भेंगरा ने बताया कि मामला दर्ज कर अजमत मियाँ को जेल भेजा जा रहा है वही लड़की को भी मेडिकल जांच के लिये सदर अस्पताल भेज दिया गया है।इस घटना से ग्रामीण काफी आक्रोशित हैं।

पलामू 7 फरवरी: पलामू जिले में हिंसक वारदात थमने का नाम नहीं ले रहा हैं. लेवी और रंगदारी के लिए अपराधी और नक्सली लगातार घटना को अंजाम दे रहे हैं. पिछले छह दिनों के दौरान तीन आपराधिक घटनाएं सामने आ चुकी हैं. तीसरी घटना जिले के पिपराटांड़ थाना क्षेत्र से सामने आयी है. यहां पुल निर्माण में लगे एक मुंशी को लेवी नहीं देने पर गोली मार दी गयी. गोली मुंशी के सिर में लगी है. उसे बेहतर इलाज के लिए रांची-रिम्स रेफर कर दिया गया है. उसकी स्थिति चिंताजनक बतायी गयी है.

जानकारी के अनुसार चतरा और पलामू को जोड़ने वाली चाको नदी पर पुल का निर्माण किया जा रहा है. दो से तीन पाये का निर्माण पूरा हो चुका है अन्य का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है. गुरूवार की शाम करीब 4.30 बजे निर्माण स्थल पर एक मोटरसाइकिल से आए दो अपराधियों ने नजदीक से सटाकर वहां के मुंशी बाबू उर्फ ओमप्रकाश सिंह के सिर में गोली मार दी.

आनन-फानन में बाबू को इलाज के लिए मंुशी को पहले लोहरसी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया, लेकिन यहां उसकी गंभीर हालत देखकर डाक्टरों ने पांकी सीएचसी रेफर कर दिया गया. पांकी सीएचसी पहुंचने पर डाक्टरों ने उसकी और ज्यादा हालत खराब देखी और रांची रिम्स ले जाने की सलाह दी. मुंशी को इलाज के लिए रांची ले जाया गया है. मुंशी पांकी के पगार गांव का निवासी है. 

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है. पुलिस इसे आपराधिक घटना मान कर चल रहे हैं. लेकिन चर्चा है कि इस घटना को माओवादियों ने लेवी नहीं देने पर अंजाम दिया है. पुलिस के अनुसार पुल निर्माण को लेकर लेवी मांगने से संबंधित किसी तरह की कोई शिकायत नहीं की गयी थी. 

चाको नदी में पिपराटांड़ और चतरा जिले से लावालौंग के बीच मुख्यमंत्री ग्राम सेतु योजना के तहत पुल का निर्माण कराया जा रहा है. दोनों जिलों के लिए यह पुल काफी महत्वपूर्ण है. ऐसे में अपराधियों द्वारा पुल निर्माण में लगे मंुंशी पर गोली चला दिए जाने के बाद आगे निर्माण की क्या स्थिति होती है. यह देखना बाकी है. घटना के बाद से मजदूरों और स्थानीय ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है.