दुबियाखाड़ में आदिवासी कुंभ मेला शुरू-70 वर्षों से ठगे गए हैं आदिवासी: मंत्री, समेत अन्य महत्वपूर्ण खबरें भी।

राजा मेदिनी राय की जयंती मनी

मेदिनीनगर: 17वीं शताब्दी में पलामू के लोकप्रिय राजा रहे मेदिनी राय की जयंती आज बेरोजगार संघर्ष मोर्चा ने धूमधाम के साथ मनायी। इस मौके पर मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने दुबियाखाड़ पहुंचकर राजा मदिनी राय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस कार्यक्रम का नेतृत्व  मोर्चा अध्यक्ष उदय राम ने किया। उन्होंने कहा कि राजा मेदिनी राय अपनी जनता के बीच काफी लोकप्रिय थे। उनके समय में हर आदमी सुखी था। प्रजा उन्हें काफी सम्मान देती थी। प्रजा की हालत जानने के लिए वे वेष बदलकर गांव-गांव घूमते थे। उनके बारे में एक कवाहत है- ‘राजा मेदनीया घर-घर बाजे नथनिया’। श्री राम ने कहा कि पलामू को पुनः समृद्धशाली बनाकर ही राजा मेदिनी राय को सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सकती है। इस मौके पर प्रदुम्न तिवारी, नन्हक सिंह, नरेश महतो, आनंद कुमार, धर्मदेव राम, अभय सिन्हा, प्रमोद राम, रमेश मिस्त्री, श्याम पाठक, मनोज कुमार समेत मोर्चा के कई सदस्य मौजूद थे।


भगवती सरस्वती के अवतरण का दिन है बसंत पंचमी: डाॅ. अमित

म्ेदिनीनगर: पांकी प्रखण्ड के सोढ़ी गांव में सरस्वती पूजा के अवसर पर रविवार की रात आयोजित भक्ति जागरण कार्यक्रम का उद्घाटन पलामू प्रमण्डल के स्वच्छता अभियान के प्रभारी डाॅ. अमित प्रकाश उपाध्याय ने किया। इस अवसर पर उन्होंने लोगों को बसंत पंचमी की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बसंत पंचमी शरद ऋतु के जाने और बसंत ऋतु के आगमन का त्योहार है। बसंत पंचमी को भगवती सरस्वती की विशेष रूप से पूजा की जाती है। आज का दिन संगीत और विद्या की देवी सरस्वती के अवतरण का भी दिन है। बसंत पंचमी के दिन ही कामदेव एवं रति ने पहली बार मानव हृदय में प्रेम और आकर्षण का संचार किया था। इस दिन कामदेव व रति की पूजा का उद्देश्य दामपत्य जीवन को सुखमय बनाना है। डाॅ. उपाध्याय ने कहा कि मां सरस्वती जीवन में अज्ञान रूपी अंधकार को दूर कर ज्ञान का प्रकाश फैलाती हैं। कहा, गांव के बच्चे कल के भविष्य हैं। इन्हीं में से कोई डाॅक्टर, इंजीनियर, आईएएस, आईपीएस या राजनेता बन सकता है। बच्चों को मां सरस्वती की बंदना करते हुए मन लगाकर पढ़ाई करने की जरूरत है। इस अवसर पर सुनील शर्मा, रामजन्म यादव, बाबूलाल यादव, उपेन्द्र यादव, रवीन्द्र यादव, मनीष यादव, विक्रमा यादव, रामप्रकाश राम, मनोज, पृथ्वी देवी, कुमारी देवी, दुखनी देवी, वेजन्ती देवी व रामलाल समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।


एसवीडी में धूमधाम से हुई सरस्वती पूजा

म्ेदिनीनगर: दायित्व ट्रस्ट द्वारा चैनपुर मंे संचालित एसवीडी पब्लिक स्कूल में धूमधाम के साथ सरस्वती की पूजा का आयेाजन किया गया। स्कूल के विद्यार्थी व शिक्षक-शिक्षिकाओं ने विशाखा वर्मा की अगुआई में विधि-विधानपूर्वक पूजा अर्चना की। सोमवार को पूजा की पुर्णाहुति की गयी। इस अवसर पर विद्यालय के निदेशक अविनाश कुमार वर्मा, पिंकी वर्मा, देवानंद प्रसाद, विशाल रंजन, आकाश वर्मा, अभिलाषा वर्मा, प्रतिमा गुप्ता, शशि मिंज, मनोज श्रीवास्तव, विश्वनाथ शर्मा, श्वेता सिंह, पुनम सिन्हा, पिंकी रंजन, स्नेह रंजन श्रीवास्तव, शमशाद आलम, उमेश गुप्ता, रामाकांत मेहता, सुनील कुमार, विमला कुमारी व कामिनी कुमारी उपस्थित थी। 


प्रतियोगिता से बच्चों मंे होता है नई उर्जा का संचार: अभिमन्यु

मेदिनीनगर: जिले के विश्रामपुर प्रखण्ड के बरिगांवा में गांव के सरकारी स्कूल में सरस्वती पूजा के अवसर पर खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें सिरकत करते हुए झामुमो के युवा नेता अभिमन्यु सिंह उर्फ बबलू सिंह ने प्रतियोगिता के विजेता बच्चों को मेडल व अन्य सामग्री प्रदान कर पुरस्कृत किया। इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा कि प्रतियोगिताओं के आयोजन से बच्चों में डर और भय का माहौल खत्म होता है और उनमें नई उर्जा का संचार होता है। मौके पर स्कूल के प्रधानाध्यापक, शिक्षक व प्रबंध समिति के पदाधिकारी उपस्थित थे। 

संत मरियम में सुर-संध्या आयोजित

मेदिनीनगर: सरस्वती पूजा के अवसर पर शहर के संत मरियम स्कूल में सुर-संध्या कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें बतौर मुख्य अतिथि प्रो. एससी मिश्रा व डाॅ. अरूण कुमार शुक्ला उपस्थित थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रो. मिश्रा ने कहा कि वर्तमान समय में मां सरस्वती की महिमा ही सर्वोपरि है। इनकी कृपा से ही सज्जनों को विजय मिलती है और दुर्जनों का नाश होता है। उन्होंने बसंत ऋतु में वीणा तथा हंस की विशेषता बताते हुए कहा कि वर्तमान चुनौतियों का सामना करना चाहते हैं तो मां सरस्वती की बंदना जरूर करें। डाॅ. अरूण कुमार शुक्ला ने कहा कि मां सरस्वती की कृपा जिसपर बरसती है वह समाज तथा राष्ट्र का विवेकशील पुरूष बन जाता है। मां सरस्वती की बंदना से देव, दानव व मानव सफलता प्राप्त करते हैं। विद्यालय के निदेशक अविनाश देव ने कहा कि मां सरस्वती की कृपा से ही मानव काम, क्रोध, मोह, लोभ तथा अहंकार जैसे शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर सकता है। मानसिक बल पाने के लिए मां सरस्वती की बंदना अतिआवश्यक है। धन्यवाद ज्ञापन विद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक अमरेन्द्र कुमार सिन्हा ने किया। इस अवसर पर गनौरी प्रजापति, मनीष कुमार चंद्रवंशी, राजू, श्रेया, पीआर तिवारी एवं एसए रहमान आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्राचार्य आदर्श कुमार ने किया।


शिक्षा का हब बनेगा पांकी: देवेन्द्र

मेदिनीनगर: पांकी विधानसभा क्षेत्र में अशिक्षा के अंधकार को मिटाकर शिक्षा का प्रकाश जलाया जायेगा। बसंत पंचमी प्रकृति के परिवर्तन का संदेश देता है। जीवन भी परिवर्तनशील है। मां सरस्वती मानव जीवन से अज्ञानता को दूर कर ज्ञान का प्रकाश फैलाती हैं। उक्त बातें पांकी विधायक देवेन्द्र सिंह उर्फ बिट्टू सिंह ने कही। वे सरस्वती पूजा के अवसर पर लेस्लीगंज, जामुनडीह, झगड़पुर, नावाडीह, तेनार एवं तरहसी के सेलारी आदि गांवों में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि पांकी विधानसभा को शिक्षा का हब बनाया जायेगा। इसी उद्देश्य को लेकर लेस्लीगंज में इंजीनियरिंग काॅलेज, पाॅलेटेक्निक काॅलेज, आईटीआई काॅलेज व मनातू में एकलव्य भवन खोला जा रहा है। इसके अलावे कृषि में परिवर्तन के लिए कृषि अनुसंधान केन्द्र व डिग्री काॅलेज जैसे शिक्षा संस्थान खुलना बाकी है। इन संस्थानों के खुल जाने के बाद पांकी विधानसभा क्षेत्र के बच्चों के उच्च एवं तकनीकि शिक्षा के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोगों ने जो उनपर भरोसा किया है उसपर वे खरा उतरने का प्रयास कर रहे हैं। मौके पर डबरा मुखिया मंजू देवी, पंसस योगेन्द्र पासवान, नीरज कुमार कुशवाहा, विनोद साव, मंदीप तिवारी, मंटू पाण्डेय, मनोज महतो, साकेत सोनी व छोटू पाठक आदि उपस्थित थे।


पेड़ से लटकती मिली महिला की लाश-दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

मेदिनीनगर: जिले के रेहला थाना से सटे जेवी हाईस्कूल के पास मुनगा के पेड़ से आज सुबह लगभग 35 वर्षीय महिला का शव लटकता मिला है। साड़ी के सहारे पेड़ से लटक रहे महिला की लाश की खबर फैलते इलाके में एकबारगी सनसनी फैल गयी। सूचना मिलते रेहला थाना की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पेड़ से उतारा गया। इसके बाद पोस्टमार्टम के लिए शव सदर अस्पताल लाया गया है। समाचार लिखे जाने तक मृतक महिला की पहचान नहीं हो सकी है। पेड़ से लटकते शव की स्थिति को देखकर महिला की हत्या किये जाने की संभावना व्यक्त की जा रही है। हत्या के पूर्व महिला के साथ दुष्कर्म की भी आशंका व्यक्त की जा रही है। रेहला थाना प्रभारी विष्णु सिंह ने भी प्रथम दृष्ट्या हत्या के मामले से इनकार नहीं किया है। उन्होंने कहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। फिलहाल पुलिस महिला की शिनाख्त के साथ-साथ हत्या या आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने मंे जुट गयी है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार महिला के शव के पैर में मोजा पहना हुआ है। उसकी आधी साड़ी फांसी का फंदा बनी है तो आधी साड़ी उसके बदन से लिपटी हुई दिखी है। 


चचेरे भाइयों ने फांसी लगाकर दी जान

मेदिनीनगर: जिले के नौडीहा बाजार थाना के चेराई गांव में 45 वर्षीय कारू भुईयां एवं 35 वर्षीय मनोहर भुईयां ने अपने घरों में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। मरने वाले दोनों युवक आपस में चचेरे भाई हैं। इस घटना के बाद परिवार में कोहराम मच गया है। वहीं गांव में सनसनी फैल गयी है। दोनों के आत्महत्या के कारण फिलहाल पारिवारिक विवाद बताया जा रहा है। सूचना के बाद गांव पहुंची नौडीहा थाना की पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है। समाचार लिखे जाने तक आत्महत्या के कारणों का स्पष्ट खुलासा नहीं हो सका है। पुलिस परिजनों के साथ पूछताछ में जुटी हुई है। 


दुबियाखाड़ में आदिवासी कुंभ मेला शुरू-70 वर्षों से ठगे गए हैं आदिवासी: मंत्री 

मेदिनीनगर: सदर प्रखण्ड के चियांकी दुबियाखाड़ में दो दिवसीय आदिवासी कुंभ मेला आज से शुरू हो गया। इसका विधिवत उद्घाटन झारखण्ड सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुण्डा ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इसके पूर्व उन्होंने दुबियाखाड़ चैक पर स्थापित पलामू के जनप्रिय राजा मेदिनी राय की आदमकद प्रतिमा पर माल्यार्पण कर  उन्हें नमन किया। मेला उद्घाटन समारोह के अध्यक्षता मेला आयोजन समिति के अध्यक्ष अर्जुन सिंह एवं संचालन अमित कुमार तथा शालिनी सिन्हा ने संयुक्त रूप से किया। इस अवसर पर अपने संबोधन में मंत्री श्री मुंडा ने कहा कि पिछले 70 वर्षों से आदिवासी विकास के नाम पर ठगे जाते रहे हैं। आदिवासियों के नाम पर सिर्फ राजनीति होती रही है। उन्होंने कहा कि रघुवर सरकार के राज में आदिवासियों के सर्वागींण विकास के लिए काम हुए हैं। आदिवासी आयोग का गठन किया गया है। आदिवासी बहुल्य गांवों में बिजली पहुंची है। सड़कों का जाल बिछा है। आदिवासी परिवारों के लिए राहत की कई योजनाएं चलायी गयी हैं। इस दौरान मंत्री श्री मुंडा ने रघुवर सरकार के कार्य व उपलब्धियों की जमकर चर्चा की। कहा, झारखण्ड विकास के राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। डालटनगंज विधायक आलोक चैरसिया ने भी राज्य सरकार के कार्यों की चर्चा की और उपलब्धियों का ब्यौरा प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि सड़कविहीन गांवों में सड़क का जाल बिछा है। समाज के अंतिम व्यक्ति तक विकास योजनाओं का लाभ पहुंच रहा है। उन्होंने चियांकी से सुआकौड़िया होते चार किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कराने एवं इस मेले को राष्ट्रीय मेला का दर्जा दिलाने की मांग की। जिला परिषद अध्यक्ष प्रभा देवी ने कहा कि सरकार को पंचायत प्रतिनिधियों पर भी नजर रखनी चाहिए। फंड नहीं मिलने के कारण पंचायत प्रतिनिधि अपने क्षेत्र की जनता की अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर पा रहे हैं। उपाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि यह मेला वर्ष 1995 से लग रहा है लेकिन अब तक यह पूर्णता को  प्राप्त नहीं कर सका है। कहीं न कहीं कमी रह गयी है जिसे पूरा करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जिला परिषद ने इस मेले को गोद लिया है, जिसके बाद मेले की रौनक बढ़ी है। उपायुक्त डाॅ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने कहा कि जिनके नाम पर यह मेला आयोजित होता है वे पलामू के लोकप्रिय राजा थे। वे अपनी प्रजा की सुख-समृद्धि चाहते थे। उन्होंने कहा कि विकास के क्षेत्र में आपसी सामंजस्य स्थापित कर राजा मेदिनी राय की सपनों को साकार किया जा सकता है। अध्यक्षता कर रहे अर्जुन सिंह ने चुकरू गांव को फ्लोराईड मुक्त कराने की मांग की। कहा कि फ्लोराईड के कारण छोटे बच्चे ही बुढ़े हो जा रहे हैं। उन्होंने भूमिहीन आदिवासियों को भूमि का पट्टा दिये जाने की मांग की। स्वागत भाषण उपविकास आयुक्त बिन्दु माधव प्रसाद सिंह ने दिये। मौके पर बीससूत्री उपाध्यक्ष विपीन बिहारी सिंह, डिप्टी मेयर मंगल सिंह, भाजपा के जिलाध्यक्ष नरेन्द्र पाण्डेय, जिप सदस्य विनोद सिंह, प्रमोद सिंह, विकास चैरसिया व विजय रविदास समेत बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। मेले के दौरान पूर्व की तरह ही विभिन्न विभागों द्वारा सरकार की योजनाओं पर आधारित स्टाॅल लगाये गए थे। जिला प्रशासन की ओर से चयनित लाभुकों के बीच परिसंपत्तियों का भी वितरण कराया गया।

राजा मेदिनी राय के आदर्शों को अपनाने की जरूरत: नामधारी

मेदिनीनगर: राजा मेदिनी राय की याद में इन्दर सिंह नामधारी द्वारा तीन दशक पूर्व दुबियाखांड में शुरू किये गये आदिवासी कुम्भ मेला के अवसर पर दिलीप सिंह नामधारी ने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ मेदिनी राय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस अवसर पर झारखण्ड के प्रथम विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी भी उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि राजा मेदिनी राय पलामू के लोकप्रिय राजा थे। वे अपनी प्रजा के सुख-दुख का हमेशा ख्याल रखते थे। उनके राज में प्रजा हर तरह से समृद्ध थी। उन्होंने कहा कि राजा मेदिनी राय की याद में ही उन्होंने इस मेले की शुरुआत की थी। दिलीप सिंह नामधारी ने भी राजा मेदिनी राय के आदर्शों को आत्मसात करने पर बल दिया। मौके पर मुरारी पाण्डेय, प्रभात भुईंया, संजर नवाज, मुक्तेश्वर पाण्डेय, देवलाल सिंह निराला, बब्लू तिवारी, विनय त्रिपाठी, जगनारायण पाण्डेय, कोमल, छोटु सिंह, संजय गुप्ता, संतोष प्रसाद, नीतीश सिंह, दशरथ सिंह, नीतीन पाण्डेय, श्रीकान्त ठाकुर, नारेन्द्र मेहता, नन्द किशोर मेहता, फुटनी तिवारी आदि उपस्थित थे ं