बुनियादी विद्यालय कोसिआरा:मध्याह्न भोजन बनाने में छात्रा लेती है भाग, बुनियाद अंग्रेजों के जमाने का, पढ़ाई नदारद

बुनियादी विद्यालय  कोसिआरा:मध्याह्न भोजन बनाने में छात्रा लेती है भाग, बुनियाद अंग्रेजों के जमाने का, पढ़ाई नदारद

मोहम्मदगंज संवाददाता कुंदन चौरसिया 

मोहम्मदगंज भविष्य की मन्दिर में जब नवनिहाल शिक्षा ग्रहण के बजाय खाना बनाने की मुहिम में जुट जाएं तो सिस्टम पर अंगुली उठाना लाजिमी है।विभाग के अधिकारी अपनी ड्यूटी के प्रति कितना सजग रहते हैं इसका जीता जागता उदाहरण है मोहम्मदगंज प्रखंड स्थित बुनियादी मवि कोसियारा।इस विद्यालय के बच्चों से मध्यान्ह भोजन बनाने का काम लिया जाता है।इस विद्यालय की नींव तब पड़ी थी जब अंग्रेजों की हुकूमत थी।अभिभावक बताते है कि इस विद्यालय से पढ़ कर लोग आज भी अच्छे ओहदे पर है।मगर हाल के दिनों में विद्यालय से सम्बंधित कई तरह की विसंगतिया उजागर हुई है।इस विद्यालय में फिलवक्त कुल 597 छात्र नामित है।शिक्षकों की लापरवाही के कारण पढ़ाई की घंटी के समय स्कूली वच्चे मटर गश्ती ज्यादा करते है व शिक्षक आराम फरमाते हैं।इसके वावजूद विभागीय अधिकारी का इस दिशा में मौन रहना शिक्षकों के साथ मिलीभगत को उजागर करता है।विद्यालय में एक भी सरकारी शिक्षक नही है।6 पारा शिक्षक भरोसे है विगत वर्ष से विद्यालय संचालित है।अभिभावकों का कहना है कि शिक्षा का गिरता स्तर का इस विद्यालय का  हाल यह  है कि बच्चे पढ़ाई के समय खाना बनाते है।इनसे यह कार्य हमेशा लिया जाता है।चाहरदीवारी के आभाव में बच्चे  स्कूल से सटे मुख्य पथ पर खेलते नजर आते है। विद्यालय की गरिमा व वच्चे के भविष्य को लेकर अभिभावकों ने  सरकारी शिक्षकों की नियुक्ति की मांग के साथ साथ व्यवस्था दुरुस्त करने की मांग विभाग के आला अधिकारी से की है।