पुलवामा में शहीद नसीर अहमद की अपने बाप के साथ आखिरी तस्वीर।

पुलवामा में शहीद नसीर अहमद  की अपने बाप के साथ आखिरी तस्वीर।

ये वो शख्स है जिसकी कहानी सुनकर आप रो पड़ेंगे। पत्नी मेजबीन से पहली नज़र में मोहब्बत करते ही किया विवाह। पत्नी ने शहादत की खबर सुनते ही दिल पर पत्थर रख कर जमी पर एक आंसू भी नही गिरने दिया। घर की आर्थिक स्थिति को देखते हुए बड़ी चुनौती का मुकाबला कर  फ़ौज में भर्ती हुआ ये जवान। सभी शहीदों के परिवार वालों को सब्र दे। ये पिता और पुत्र के मिलन की आखरी तस्वीर है। उस बाप ने जब अपने लाल के शहीद होने की खबर कैसे सुनी होगी। वो बीवी जो सालो अपने पति के घर आने के इंतज़ार में घड़ियां बिताई होगी। उसपर क्या गुज़री होगी।आतंकियों के द्वारा की गई कायरतापूर्ण कार्रवाई से देश में पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ क्रांति आगई है। सरकार ने कड़ा रुख नहीं अपनाया तो जनता  धैर्य खो देगी। जनता में जो गुस्सा देखा जा रहा है। उसे देखते हुए सरकार को पाकिस्तान और आतंकवाद के खिलाफ कड़ा कदम उठाना पड़ेगा।