176 Views

कैलाश मानसरोवर की यात्रा प्रत्येक हिन्दू करना चाहता है।

रांची, 04.03.2019, कैलाश मानसरोवर की यात्रा प्रत्येक हिन्दू करना चाहता है। लेकिन आर्थिक रूप  से कमजोर व्यक्ति इस यात्रा पर नही जा पाते। इसलिए झारखंड सरकार ने वैसे तीर्थयात्री जो आर्थिक रूप से कमजोर है उनको एक लाख रुपये का कैलाश मानसरोवर अनुदान राशि दे रही है। उक्त बातें झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मुख्यमंत्री आवास में आयोजित कैलाश मानसरोवर से लौटे तीर्थयात्रियों को अनुदान राशि प्रदान करते हुए कही। 

इस मौके पर उन्होंने सबसे पहले सभी झारखंड और देश वासियों को माह शिवरात्रि की शुभकामना दी। वहीं उन्होंने कहा कि भारत आध्यात्मिक और धर्म परायण देश है। झारखंड सरकार समाज के गरीब तबके के लोगों के लिए, जो आर्थिक रूप से सक्षम नही है, उसे धयान में रख कर मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना की शुरुवात की। इस योजना में अभी तक 5000 से ज्यादा लोगों को तीर्थ करवाया गया है। वही झारखंड के वैसे तीर्थयात्री जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और वे कैलाश मानसरोवर जैसे कठिन तीर्थ पर जाना चाहते गई उनके लिए सरकार ने एक लाख की अनुदान राशि की घोषणा की थी। जिसे आज 2018-19 में लौटे तीर्थयात्री को आज दे रही है। 

उन्होंने कहा कि यह कोई सरकार से तरफ से एहसन नही किया जा रहा। सरकार के तिजोरी में जो पैसे है वो जन कल्याण और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के उत्थान के लिए है। सरकार भारत की संस्कृति का निर्वहन कर रही है। मानसरोवर तीर्थयात्री बहुत ही सौभाग्यशाली है। मुझे खुशी है कि आपने अपनी यात्रा के दौरान भगवान भोलेनाथ से देश और राज्य के साथ अपने परिवार के लिए कुशलता की कामना की। 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि भारत विश्व गुरु बने और इसके लिए हम सब मिल कर काम कर रहे गई। 

वहीं उन्होने कहा कि इस योजना से वैसे लोग जिनके अंदर तीर्थ करने की आशा है उसे पूर्ण करने का काम सरकार कर रही है। इस योजना का प्रचार आप तीर्थयात्री करें और हर किसी को इस यात्रा के लिए प्रेरित करें। 

उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार राज्य के पर्यटन क्षेत्र को भी विकसित कर रही है। झारखंड में धार्मिक तीर्थ बहुत है। हर धर्म का तीर्थ झारखंड में है। और वैसे पर्यटन क्षेत्र को विकसित कर हम लोगों को रोजगार देने चाहते है। इसे ध्यान रखते हुए सरकार विकास काम कर रही है। सरकार की मंशा है कि दुनिया का सबसे बड़ा बुद्ध स्तूप इटखोरी में बने और सरकार इस पर विचार कर रही है। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इटखोरी पहुंचे। क्यों कि विदेशी पर्यटक भारत को विदेशी मुद्रा देते है। जिससे भारत का आर्थिक विकास होता है। झारखंड पर्यटन जल्द ही दुनिया के मानचित्र पर नजर आएगा।

कार्यक्रम में पर्यटन मंत्री अमर कुमार बाउरी ने कहा कि जब से रघुवर दास की सरकार आयी है तब से लोगों को तीर्थ करवाने का यह प्रयास किया जा रहा है। मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना की शुरुवात भी इसी उद्देश्य से की गई। ताकि हर व्यक्ति तीर्थ कर सके। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के दिशा निर्देश पर अभी तक राज्य के 5000 से ज्यादा लोगों को तीर्थ करवाया गया है। 

वहीं उन्होने कहा कि कैलाश मानसरोवर की यात्रा कठिन होती है। सीएम के निर्देश पर अनुदान राशि दी जा रही है। ताकि सरकार आपकी यात्रा में थोड़ा सहयोग कर सके। वहीं महाशिवरात्रि के मौके पर पर्यटन मंत्री ने सभी देशवासियो और राज्य वासियों को शुभकामनाएं दी। 

पर्यटन सचिव राहुल शर्मा ने कहा कि यह पहला वर्ष है जब 70 से 75 श्रद्धालु ने केलॉग मानसरोवर की यात्रा के लिए आवेदन दिया था। कि लोग भारत सरकार, निजी टूर एंड ट्रेवल से भी कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाते है। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार की मंशा है कि राज्य के ज्यादा से ज्यादा लोग कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाएं और इसी कारण सरकार श्रद्धालुओं को एक लाख रुपये का अनुदान राशि दे रही है।

इस मौके पर सांसद बी डी राम, गिरिडीह विधायक, पर्यटन निदेशक संजीव कुमार बेसरा सहित 2018-19 के मानसरोवर यात्री उपस्थित थे।