142 Views

श्रीराम के आदर्शों को जीवन मे उतारें-धर्मध्वजाचार्य।


Repoter श्रवण कुमार
पलामू  पांडू 

                                                                भगवान श्रीराम के आदर्शों को जीवन मे उतारें-धर्मध्वजाचार्य।

पांडू-प्रखण्ड के मुसिखाप गांव में आयोजित विराट संत महासम्मेलन एवं रामकथा के 16 वें अधिवेशन में अपने प्रवचन में श्री श्री 1008 श्री धर्मध्वजाचार्य ने यह बात कही।इन्होंने अपने प्रवचन में मर्यादापुरूषोत्तम भगवान श्री राम के जीवन चरित्र की कई जीवंत उदाहरण लोगों के सामने रखीं।इन्होंने कहा कि,बस लोग श्री राम के आदर्शों को अपने जीवन मे समाहित करें।धरती से रोग,शोक,सन्ताप,दुःख स्वतः समाप्त हो जाएंगे।वहीं श्री राम कथा महायज्ञ के तीसरे दिन के प्रवचन में झांसी से पँहुची विदुषी रुचि रामायणी ने संगीतमय प्रवचन कर श्रोताओं मन मोह लिया।उत्तरप्रदेश से पँहुचे इंद्रेश शास्त्री जी ने भरत चरित की भावात्मक ब्याख्या की।प्रखण्ड के मुसिखाप गाँव में बुधवार से विराट सन्त सम्मेलन सह श्री राम कथा प्रवचन का कार्यक्रम शुरू हुआ है,जो 10 मार्च तक चलेगा।प्रखण्ड के गांवों से भारी संख्या में श्रद्धालु इस कार्यक्रम में पँहुच रहे हैं।प्रवचन का कार्यक्रम सन्ध्या तीन बजे से सात बजे तक चलता है।मुखिया अरविंद सिंह,डॉ शंकर प्रसाद साहू,डी एन सिंह, सुरेन्द्र सिंह सहित मुसिखाप गाँव के सभी ग्रामीण तन मन धन से इस कार्यक्रम में लगे हुए हैं