451 Views

मेराल थाना क्षेत्र के हासनदाग गांव में बीती रात्रि बारात में शामिल होने गई महिला की लौटने के क्रम में हत्या कर दी गई। मृतका का नाम सोनी देवी उम्र लगभग 30 वर्ष बताया गया है।

मेराल थाना क्षेत्र के हासनदाग गांव में बीती रात्रि बारात में शामिल होने गई महिला की लौटने के क्रम में हत्या कर दी गई। मृतका का नाम सोनी देवी उम्र लगभग 30 वर्ष बताया गया है। सोनी अपने पीछे 3 बच्चे  को अनाथ छोड़ गई ।सभी बच्चे 4 से 8 वर्ष के हैं। इनमें रोहित कुमार रितेश कुमार रागिनी कुमारी का नाम क्रमशः शामिल है। मृतिका के पति का नाम अशोक उर्फ मूंगा लाल चौधरी है। समाचार के अनुसार गांव में ही गुरु उर्फ राम सरिख चौधरी के घर लड़की का बारात आया था। इसी में अशोक अपनी पत्नी के साथ बारात में शामिल होने गया था ।बरात मझीयांव थाना क्षेत्र के बिछी सनपुरवा गांव से आया था। जहां ऑर्केस्ट्रा का भी  आयोजन किया गया था ।इसी में अशोक के साथ सोनी भी वहां गई थी ।अशोक के घर से विवाह स्थल लगभग 1 किलोमीटर के दूरी के होगा। अशोक ने बताया कि वह तीनों बच्चों को घर मे छोड़कर पत्नी के साथ वह बारात में गया था ।जहां बच्चों के घर में होने के कारण पत्नी को विवाह समारोह मे छोड़ कर वह रात्रि 1:00 बजे के लगभग घर लौट आया था ।और घर में सो गया ।जब सुबह उठा तो पत्नी को नहीं देख कर वह अगल-बगल लोगों से पूछते हुए बारात स्थल पर गया ।जहां उसे पत्नी के बारे में कुछ भी पता नहीं चला ।बाद में उसे पता चला कि उसकी पत्नी का शव उसके घर से पश्चिम गंगासागर चौधरी के अरहर खेत में मृत शव पड़ा हुआ है ।वह भागा हुआ वहां पहुंचा तो सही पाया ।इधर घटना की सूचना मुखिया दुखन चौधरी ने मेराल पुलिस को और तुरंत दिया जहां थाना प्रभारी रामेश्वर उपाध्याय दल बल के साथ मौक़े के स्थल पर पहुंचे ।जहां जमावड़ा लगाए आक्रोशित ग्रामीणों एवं परिजनों ने निष्पक्ष जांच के लिए कुत्ते की मांग की। जहां इसकी खबर पाते ही प्रशिक्षु आईपीएस बंदिता राणा एवं पुलिस निरीक्षक गढ़वा लक्ष्मी कांत ने ग्रामीणों की मांग को देखते हुए पुलिस अधीक्षक शिवानी तिवारी से खोजी कुत्ता देने का आग्रह पुलिस अधीक्षक से किया ।जिसके आलोक में गढ़वा पुलिस अधीक्षक ने सीआरपीएफ कैंप भंडरिया से खोजी कुत्ता जर्मन शेफर्ड भेजा। इसके बाद शव को पुलिस कब्जे में लेकर 4:00 बजे तक गढ़वा सदर अस्पताल अन्तःपरीक्षण हेतु भेजा जा सका ।इधर मामले की गहन छानबीन के लिए प्रशिक्षु आईपीएस  अपने सहयोगी पुलिस पदाधिकारियों के साथ एवं स्थानीय लोगों से पूछताछ की एवं खोजी कुत्ते के आधार पर हत्या के कारणों की पता लगा रहे हैं।समाचार लिखे जाने तक हत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है ।हालांकि यह  हत्या हासनदाग गांव एवं आसपास के लिए सनसनी फैल गया है। हासनदाग गांव के लोगों ने बताया कि इस तरह की हत्या पिछले एक दशक से किसी प्रकार की हत्या महिलाओं  या पुरुष के साथ नहीं हुआ था। कयास लगाया जा रहा है कि उक्त महिला की गला दबाकर हत्या की गई है। वहीं हत्यारे पूर्व सुनियोजित ढंग से उसे पकड़ कर हत्या किए हैं ।महिला के साथ बलात्कार की घटना हुई है या नहीं अन्तःपरीक्षण के बाद ही पता चलेगा।