61 Views

पोषक क्षेत्र के बाहर की महिला का सेविका पद पर चयन, ग्रामीणों ने उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन

पोषक क्षेत्र के बाहर की महिला का सेविका पद पर चयन, ग्रामीणों ने उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन

डालटनगंज, 15 मार्च : पलामू जिले के नावाजयपुर प्रखंड के ग्राम ठेकही में पोषक क्षेत्र के बाहर की महिला का आगंनबाड़ी सेविका पद पर चयन कर लेने का मामला प्रकाश में आया है। इस संबंध में ग्रामीणों ने उक्त सेविका का चयन तत्काल प्रभाव से रद्द कर पोषक क्षेत्र के योग्य महिला का चयन करने की मांग उपायुक्त से किया है। 

ग्रामीणों ने आज मानती देवी के नेतृत्व में उपायुक्त को आदेवन देकर पूरे मामले की गहनता से जांच कराकर फिर से सेविका पद के लिए आमसभा कराने की मांग किया है। उपायुक्त को सौंपे ज्ञापन में ग्रामीणों ने कहा कि बीडीओ ने पंचायत कुभी खुर्द गांव की अयोग्य महिला किरण देवी  का चयन कर दिया है।

आमसभा के दौरान ही ग्रामीण विरोध कर रहे थे। ग्रामीणों के विरोध के कारण बीडीओ ने आमसभा से बिना कोई निर्णय सुनाये वापस चले गये। बाद में कार्यालय में बुलाकर सेविका को चयन पत्र निर्गत कर दिया गया। इसके बाद ग्रामीण 19 जनवरी और 5 मार्च को भी जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, उपविकास आयुक्त को आवेदन देकर मामले की जांच कराने का मांग कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। 

ज्ञापन सौपने वालों में अवधेश बैगा, मंदीप, हरिहर परहिया, राजपित कुंअर, रूक्मणी देवी सहित लगभग एक दर्ज ग्रामीणों के नाम शामिल है।

कुपोषण मुक्त झारखंड बनाने की दिशा में अभियान चल रहा: जागृति शर्मा

डालटनगंज, 15 मार्च (थर्ड आई): पोषण पखवाड़ा ‘हर घर पोषण त्योहार’ अभियान के तहत आज मेदिनीनगर-शहरी बाल विकास परियोजना के तहत नगर निगम क्षेत्र के आधा दर्जन आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविकाओं और लाभुकों को पोषण के महत्व से अवगत कराया गया। पोषण तत्व शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? आदि विषयों पर सेविकाओं को अपने-अपने पोषक क्षेत्र में विशेष तौर पर 22 मार्च तक अभियान चलाकर जागरूक करने का निर्देश दिया गया। 

महिला पर्यवेक्षिका जागृति शर्मा ने बताया कि सरकार ने आगामी 2022 तक पूरे भारत को कुपोषण मुक्त बनाने का लक्ष्य रखकर अभियान चला रही है। चुकी समाज कल्याण महिला व बाल विकास  विभाग में बच्चों और महिलाओं के विकास से संबंधित कार्यक्रम चलता है, इसलिए झारखंड सरकार ने सभी जिलों में आंगनाड़ी केंद्रों के माध्यम से कुपोषण मुक्त झारखंड बनानेे की दिशा में अभियान शुरू किया है। 

उन्होंने बताया कि कुपोषण मुक्त अभियान को सफल बनाने के लिए प्रतिदिन आंगनबाड़ी केंद्रों पर जागरूकता अभियान अलग-अलग विषय पर चलाया जा रहा है। इसके अलावा भी सेविकाएं प्रतिदिन घर-घर जाकर लोगों को पोषण के महत्व से अवगत करा रही हैं। साथ ही दैनिक जीवन में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कितना कैलोरी और विटामिन की जरूरत है, इस बात की जानकारी दिया जा रहा है।