193 Views

फकीरों ने कालाजादू दिखाकर महिलाओं को बनाया शिकार, उड़ा ले गए लाखों रूपये

फकीरों ने कालाजादू दिखाकर महिलाओं को बनाया शिकार, उड़ा ले गए लाखों रूपये  

 पलामू जिले में फकीर के वेष में इन दिनों लुटेरे घूम रहे हैं। महिलाओं को देखकर पहले काला जादू दिखाते हैं और फिर मौका मिलते ही लाखों रूपये उड़ा ले जाते हैं। जिले में अबतक तीन महिलाएं फकीरों के शिकार हो चुकी हैं। उनके लाखों रूपये गायब हो जाने की सूचना मिली हैं। कई अन्य महिलाओं को फकीरों द्वारा झांसे में लिए जाने की सूचना मिली है, लेकिन उनकी पहचान नहीं हो पायी है।

भोलीभाली महिलाओं को लेते हैं झांसे में  

जिले के हैदरनगर थाना क्षेत्र में फकीर के वेश में लुटेरे घूम रहे हैं। ऐसे लोग घर की भोलीभाली महिलाओं को पहले तिलिस्म दिखाते हैं। जब महिलाएं विश्वास आ जाती हैं, तब उन्हें शिकार बनाया जाता है। ऐसी ही एक घटना हैदरनगर थाना के बिलासपुर गांव में घटी। दो लोग फकीर के वेष में गांव में पहुंचे। उन्होंने बारी बारी तीन महिलाओं को लूट का शिकार बनाया। फकीरों ने महिलाओं को लाखों रुपये का चूना लगा दिया।

तिलिस्म दिखाकर उड़ा ले गए पैसे 

घटना की जानकारी देते हुए पीड़ित के पति अक्षय कुमार सिंह ने बताया कि शुक्रवार की सुबह फकीर के वेष में दो लोग उनके घर आये। उन्होंने एक से बढ़कर एक तिलिस्म दिखाया। मिट्टी से सिंदूर बनाया और मुंह से शिवलिंग निकाला। पानी पीकर दूध की कुल्ली की। इसे देखकर महिलाएं उनके झांसे में आ गई। फकीरों ने इधर-उधर की बातें की। उसके बाद कहा कि जितना पैसा है अपने पर्स में डालकर लायें। वह मंत्र पढ़कर पर्स लौटा देंगे। शनिवार की सुबह पर्स खोलकर देखना, पर्स से नोटों की बारिश होगी।

पर्स खोला गया तो सारे पैसे गायब मिले  

फकीरों के झांसे में आकर महिलाओं ने उनके कहने के अनुसार ऐसा ही किया। फकीरों ने बाद में पर्स वापस करते हुए कहा कि इसे सुरक्षित स्थान पर रख दें। बीच में उसे देखना भी नहीं है। शनिवार को सुबह 10 बजे खोलकर देंखेगी, उससे नोटों की बारिश होगी। फकीरों के कहने के अनुसार महिलाओं ने वैसा ही किया।

फकीरों की तलाश में जुटे ग्रामीण  

जब उन्होंने सुबह अपना अपना पर्स देखा तो पता लगा कि उसमें रखे गये सारे रुपए गायब हैं। अब उन महिलाओं के पति उन लुटेरे फकीरों को विभिन्न गावों में तलाश करने में जुटे हैं। मगर उनका कही अता पता नहीं है। उन्होंने जो पता बताया था, वो भी फर्जी निकला। इस घटना में बिलासपुर गांव के संतोष सिंह, अक्षय सिंह व पवन राम के घर फकीरों ने महिलाओं को लाखों रुपये का चुना लगा दिया है।

मगही अग्रवाल समाज का होगा होली मिलन

डालटनगंज, 16 मार्च : मगही अग्रवाल समाज के तत्वावधान में रविवार को दोपहर दो बजे से होली मिलन समारोह का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम जिले के चैनपुर प्रखंड अंतर्गत बिरसानगर-शाहपुर स्थित ग्रेटर एस.एल.ए. हाई स्कूल के प्रांगण में होगा। 

स्कूल के निदेशक मुकेश अग्रवाल ने कहा कि होली रंगोत्सव का त्योहार प्रेम और सद्भावना से जुड़ा त्योहार है, जिसमें अध्यात्म का अनोखा रूप झलकता है। इस त्योहार को रंग और गुलाल के साथ मनाने की परंपरा है। इस त्योहार के साथ कई पौराणिक कथाएं एवं मान्यताएं जुड़ी हुई हैं। यह होली मिलन समारोह अग्रवाल समाज के द्वारा बड़े ही धूमधाम से मनाया जाएगा। श्री अग्रवाल ने आग्रह पूर्वक समाज के सभी लोगों को उपस्थित होने के लिए आमंत्रित किया है।इस समारोह के मुख्य अतिथि डालटनगंज शहर के प्रख्यात हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर राहुल अग्रवाल होंगे, जबकि समारोह के मुख्य आयोजनकर्ता के रूप में डॉ रंजन अग्रवाल, रिशु अग्रवाल, शुभम अग्रवाल आदि शामिल हैं।

जानकारी दिए बगैर पुलिस ने गवाही दर्ज कर ली, आईओ ने आरोप को नकारा

हरिहरगंज, 16 मार्च : हरिहरगंज थाना कांड संख्या 63/2013 के अनुसंधानकर्ता द्वारा सूचना दिए बिना झूठी गवाही दर्ज कर लेने का मामला प्रकाश में आया है। मालूम हो कि 25 मई 2013 को दो समुदाय के बीच तनाव उत्पन्न हो गया था। इस दौरान कुछ दुकानों को क्षति पहुंचायी गयी थी।इस कांड में स्वतंत्र गवाह बनाए गए झंडा चैक निवासी पंकज कुमार उर्फ पप्पू शौंडिक ने बताया कि न्यायालय में प्रस्तुत केस डायरी का नकल लेने पर यह पता चला कि अनुसंधानकर्ता एएसआई मुस्तफा हुसैन ने केस डायरी की कंडिका 435 में स्वतंत्र साक्षी के रूप में मेरा बयान दर्ज किया है, जिसमें मेरे द्वारा आरोपियों की संलिप्तता की पुष्टि की गयी है। परंतु उसके द्वारा इस संदर्भ में किसी प्रकार की गवाही नहीं दी गई है।श्री शौंडिक ने कहा कि उन्होंने उक्त घटना को देखा ही नहीं है तो गवाही कैसे दे सकता है? घटना के साढे पांच वर्ष बाद झूठा बयान दर्ज कर अनुसंधानकर्ता समाज में वैमनस्यता फैला रहे है। इस संबध में पंकज उर्फ पप्पु शौंडक ने पलामू डीआईजी तथा एसपी से शिकायत कर पुनः बयान दर्ज कराने की मांग की है। उधर, अनुसंधानकर्ता एएसआई मुस्तफा हुसैन ने उक्त आरोप को बेबुनियाद बताया है।