1958 Views

तीन गांव की छात्राओं ने स्कूल कालेज व कोचिंग जाना किया बंद।

खरडीहा में छेड़खानी का विरोध करने पर हत्या मामला।

तीन गांव की छात्राओं ने स्कूल कालेज व कोचिंग जाना किया बंद।

पलामू में छेड़खानी का विरोध करने के दौरान खरडीहा गांव में हुई युवक की हत्या के बाद आस पास के गांव की छात्राओं ने स्कूल, कालेज व कोचिंग जाना बंद कर दिया है। छात्राओं के साथ उनके अभिभावक भी इसे लेकर चिंतित हैं। मातायें असगरी बीवी व रुबी बीवी ने कहा कि वह अपनी बच्चियों को किसी वजह से गांव से बाहर अकेली नहीं जाने देंगी। उन्होंने कहा कि वकील की तरह अन्य बच्चों को वह खोना नहीं चाहती। उन्होंने अपनी बच्चियों को स्कूल कालेज जाने से मना कर दिया है। प्रखंड के मोकहर कलां पंचायत के तीन गांव की छात्राओं ने स्कूल व कोचिंग जाना बंद कर दिया है। छात्राओं व उनके अभिभावक खरडीहा गांव में 12 मार्च को घटित घटना से चिंतित हैं। उन्होंने बताया कि पहले भी छेड़खानी की कई घटनायें हो चुकी है। वह इज्जत प्रतिष्ठा को लेकर उसे दबाते रहे। 12 मार्च को करीमनडीह व कुड़वा की छात्राओं के साथ मनचलों ने छेड़खानी की थी। जिसका विरोध करने पर एक युवक की जान चली गई थी, जबकि दूसरे को पीट कर घायल कर दिया गया था।  छात्रा अंजु कुमारी, शबनम परवीन, तरन्नुम समेत अन्य ने बताया कि वह पढ़ने के लिए हैदरनगर व हुसैनाबाद जाती थीं। पर 12 मार्च की घटना के बाद से उन्होंने पढ़ाई नहीं करने का निर्णय ले लिया है। उन्होंनें बताया कि छात्राओं के साथ गांव से लेकर चौक चैराहों तक असुरक्षित माहौल कायम हो गया है। जिसमें लड़कियों का आना जाना मुश्किल सा लगने लगा है। किसान नवाजिश खान ने बताया कि छात्राओं के साथ छेड़खानी को लेकर ही 12 मार्च को एक युवक की हत्या हो गई थी। उन्होंने कहा कि वह अपनी बच्चियों को स्कूल भेजकर अपनी जान जोखिम में नहीं डालना चाहते हैं। इस मामले में उन्होंने पुलिस प्रशासन व सामाजिक स्तर पर पहल करने की मांग की है। जिससे नारी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सुरक्षित माहौल बन सके। मोकहरकला पंचायत के सिघना गांव निवासी प्रखंड उप प्रमुख कमर रजा खान से इस संबध में पूछे जाने पर बतायब कि छात्राओं को स्कूल व कोचिंग जाने में कोई परशानी नहीं होने दी जायेगी। उन्हें कहीं परेशानी लगती है,तो वह पुलिस -प्रशासन को सूचना दें। सुरक्षित माहौल कायम करने की दिशा में उनका प्रयास भी होगा।