152 Views

सखी बुथ'के लिए महिला मतदानकर्मी हो रही हैं प्रशिक्षित

सखी बुथ'के लिए महिला मतदानकर्मी हो रही हैं प्रशिक्षित

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-उपायुक्त, पलामू के आदेशानुसार लोकसभा चुनाव में प्रस्तावित 'सखी बुथों' के लिए महिला मतदानकर्मियों को क्रमिक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसी क्रम में आज स्थानीय के.जी.स्कूल में एक सौ छिहत्तर(176) महिला पीठासीन एवं प्रथम मतदानकर्मियों को चुनाव का प्रशिक्षण दिया गया।

प्रशिक्षण का अनुश्रवण करते हुए पलामू डी.ई.ओ. सुशील कुमार ने कहा कि मतदान की विश्वसनीयता के लिए मौकपोल अनिवार्य है। इसलिए मौकपोल की प्रक्रिया को पूरी तरह समझ लेना चाहिए। साथ ही प्रशिक्षण के हर पहलू को महत्त्व देना जरूरी है।

डी.एस.ई.मसूदी टुडू ने कहा कि सखी बुथों पर सफल मतदान कराने का दारोमदार महिला मतदानकर्मियों पर ही है।इसलिए इस दायित्व को चुनौती के रूप में लें।

मास्टर ट्रेनर मनु प्रसाद तिवारी ने प्रशिक्षण के दौरान बताया कि पीठासीन पदाधिकारी मतदान दल के कप्तान होते हैं। इसलिए समग्रता के साथ समन्वय स्थापित करना उनका दायित्व है।उनके धैर्य, संयम व मतदान प्रक्रिया पर मजबूत पकड़ से सबकुछ आसान हो जाता और दल बेहतर परिणाम देता है।उन्होंने ई.वी.एम.-वीवीपैट को सील करने, एरर के प्रति सचेत रहने व इसे दूर करने की तरकीब बतायी।

वहीं मास्टर ट्रेनर परशुराम तिवारी ने मतदाता सूची, मतदाता रजिस्टर व मतदान पर्ची व लिफाफों के संधारण करने के साथ मतदानकर्मियों के दायित्वों तथा परस्पर तालमेल के बारे में सिलसिलेवार समझाया। उन्होंने महिला मतदानकर्मियों से मौकपोल का व्यावहारिक अभ्यास भी कराया।

प्रशिक्षण में कामेश्वर मेहता व सुनील ने आवश्यक सहयोग प्रदान किया।

 जिला मुख्यालय के दस प्रशिक्षण स्थलों पर कुल मिलाकर दो हजार तीन सौ पीठासीन एवं प्रथम मतदान पदाधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया।