142 Views

दिव्यांग व्यक्तियों सामान्य व्यक्तियों की तरह समान अवसर का अधिकार व कानूनी अधिकार की सुरक्षा का अधिकार है ।

दिव्यांग व्यक्तियों सामान्य व्यक्तियों की तरह समान अवसर का अधिकार व कानूनी अधिकार की सुरक्षा का अधिकार है ।उक्त बातें अधिवक्ता संतोष कुमार पांडे ने कही। वे मंगलवार को सदर प्रखंड के गणेश लाल अग्रवाल उच्च विद्यालय में लीगल लिटरेसी क्लब में बच्चों को कानून की बारीकियों को बता रहे थे ।उन्होंने कहा कि भारत का संविधान अपने सभी नागरिकों के लिए समानता ,स्वतंत्रता ,न्याय व गरिमा सुनिश्चित करता है ।वर्तमान समय में दिव्यांग के प्रति नजरिया बदला है ।उन्होंने कहा कि दिव्यांग व्यक्तियों के साथ परिवहन सुविधाओं ,सड़क पर, यातायात के संकेत या निर्मित वातावरण में कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता। सरकारी रोजगार के मामले में दिव्यांग व्यक्तियों के साथ कोई भेदभाव नहीं करना है। उन्होंने कहा कि लीगल लिटरेसी क्लब मुकदमे का बोझ कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है। लिटरेसी क्लब के माध्यम से छात्रों में जागरुकता आएगी और बच्चे समाज में जाकर इसकी सुविधा बताएंगे। उन्होंने कहा कि जागरूकता से ही मुकदमे का बोझ कम किया जा सकता है। साथ ही लोगों को अधिकार मिल सकता है। उन्होंने कहा कि प्री लिटिगेशन के तहत लोग मामले सुलझा सकते हैं ।एडीआर प्रणाली इसके लिए सशक्त माध्यम है। उन्होंने बच्चों को कानून में वर्णित प्रावधानों का विस्तार से चर्चा की ।साथ ही कहा कि दिव्यांग लोगों को संविधान में बहुत सारे अधिकार प्राप्त हैं। दिव्यांग होना कोई अभिशाप नहीं है। बल्कि इसे चुनौती के रूप में लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज दिव्यांग लोगो को सामाजिक स्तर को सुधारने की दिशा में सरकार काम कर रही है।  इस मौके पर गणेश लाल अग्रवाल महाविद्यालय के प्राचार्य मिथिलेश कुमार,शिक्षिका नीति सिंह ,रुचि सिंह ,के अलावे छात्र रंजन कुमार तबरेज अजीत कुमार ,जावेद खान ,समेत दर्जनों लोग उपस्थित थे