259 Views

हनुमान छाप सिक्का के कारोबार को लेकर हत्या, धारधार हथियार से शरीर को कई हिस्सों में काटा

हनुमान छाप सिक्का के कारोबार को लेकर हत्या, धारधार हथियार से शरीर को कई हिस्सों में काटा

गुमला : गुमला जिला अंतर्गत घाघरा प्रखंड के दोदांग कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय स्कूल के समीप सोमवार की रात करीब 10 बजे अपराधियों ने टोटो रामपुर निवासी बिंदेश्वर चीक बड़ाइक (40 वर्ष) की हत्या कर दी. तेज धारधार हथियार से शरीर के कई हिस्सों में काटा गया है.शरीर में लगे जख्म व शव की जो स्थिति है. उसके अनुसार बिंदेश्वर को दौड़ा दौड़ाकर मारा गया है. बिंदेश्वर को एक ठेकेदार ने मुंशी का काम दिलाने के बहाने बुलाया था. इसके बाद उसकी हत्या हो गयी. बिंदेश्वर के पॉकेट से पांच रुपये के बहुत पुराने नोट मिले है. इससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि हनुमान छाप सिक्का व पुराने नोट के कारोबार को लेकर भी हत्या हुई होगी. पुलिस ने रात 11 बजे शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए गुमला सदर अस्पताल भेज दिया है.

हत्या किन लोगों ने की है. इसका पता नहीं चला है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. मृतक के पत्नी कलावती देवी ने बताया कि बिंदेश्वर को गुमला के एक ठेकेदार के द्वारा मुंशी का काम करने के लिए बुलाया गया था. जिसके बाद वह वापस आया नहीं आया. रात को 10 बजे अंतिम बार बिंदेश्वर से उसकी पत्नी फोन करके पूछी कि घर कब तक आ रहे हैं, तो बिंदेश्वर बोला कि आधे घंटे में आ रहे हैं. जिसके बाद आधे घंटे के अंदर ही उसकी हत्या कर दी गयी. हत्या के कारणों का स्पष्ट अभी तक पता नहीं चल पाया है. घाघरा पुलिस ने बताया कि हत्या की सूचना के बाद शव को बरामद किया गया है.

जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. पुलिस जांच में मृतक के जेब से बहुत पुराने पांच रुपये के नोट का जेरॉक्स कॉपी बरामद हुआ है. बताया जाता है कि उक्त नोट में हिरण छाप होने के कारण बाजार में उसकी बदली करने के एवज में बहुत मोटी रकम मिलती है. ऐसा प्रतीत होता है कि इसी लेनदेन के चक्कर में बिंदेश्वर की हत्या की गयी होगी. मृतक की पत्नी ने बताया कि बिंदेश्वर के पास से बरामद पुराने पांच रुपये का नोट गुमला के ही एक व्यक्ति ने दिया था. बिंदेश्वर उसी नोट का फोटो कॉपी कराकर घर से निकला था. लेकिन उसकी हत्या हो गयी।