330 Views

झारखंड की तीन सीटों को लेकर अभी तक सस्पेंस बना हुआ है. कौन होगा उम्मीदवार इसे लेकर लोगों की उत्सुकता बढ़ती जा रही है.

सुनील चौधरी. रांची : झारखंड की तीन सीटों को लेकर अभी तक सस्पेंस बना हुआ है. कौन होगा उम्मीदवार इसे लेकर लोगों की उत्सुकता बढ़ती जा रही है. 

पर भाजपा है कि कोडरमा, चतरा और रांची सीटों पर अब तक उम्मीदवारों की घोषणा नहीं कर सकी है. इधर, यूपीए गठबंधन के कांग्रेस और झामुमो ने भी सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है. कांग्रेस की नजर भाजपा प्रत्याशियों पर है. कोडरमा, चतरा और रांची में भाजपा द्वारा प्रत्याशी घोषित किये जाने की बाद ही कांग्रेस अपने प्रत्याशी घोषित कर सकती है. हालांकि यूपीए गठबंधन में शामिल झाविमो ने कोडरमा से बाबूलाल मरांडी को उम्मीदवार बनाया है. 

झाविमो ने गोड्डा  से भी प्रदीप यादव को प्रत्याशी बना दिया है. जबकि राजद ने एकतरफा फैसला लेते हुए पलामू से घूरन राम और चतरा से सुभाष यादव को प्रत्याशी बनाया है. दूसरी ओर कांग्रेस द्वारा रांची, हजारीबाग, चतरा, पलामू, धनबाद, लोहरदगा, खूंटी, प सिंहभूम में अब तक प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की गयी है. 

       बढ़ रहे हैं बगावत के सुर

इधर, भाजपा की परेशानी भी बढ़ रही है. रांची सीट पर भाजपा के निवर्तमान सांसद रामटहल चौधरी ने टिकट कटने की सूचना पर बगावती तेवर अपना लिये हैं. वे साफ-साफ निर्दलीय लड़ने की घोषणा कर चुके हैं. 

उधर, कोडरमा के निवर्तमान सांसद रवींद्र राय खुल कर कुछ नहीं कह रहे हैं पर उनके समर्थक लगातार आलाकमान के फैसलों का विरोध कर रहे हैं. चतरा में भी निवर्तमान सांसद सुनील सिंह अभी भी टिकट की आस में दिल्ली दरबार की दौड़ लगा रहे हैं. हाल ही  में लालटेन छोड़ कमल थाम चुकी अन्नपूर्णा देवी के समर्थकों में उत्साह है कि कोडरमा या चतरा से उन्हें टिकट मिलना तय है. गिरिडीह सीट तो एनडीए के सहयोगी दल आजसू को चला गया है. निवर्तमान सांसद रवींद्र पांडेय भी बागी तेवर अपना चुके हैं. 

        कांग्रेस की है पैनी नजर

 कांग्रेस की पैनी नजर चतरा सीट पर बनी हुई है. सूत्रों ने बताया कि चतरा से यदि अन्नपूर्णा देवी को भाजपा टिकट देती है, तो कांग्रेस किसी गैर यादव प्रत्याशी को टिकट दे सकती है. 

पलामू को लेकर भी कांग्रेस में मंथन चल रहा है. रांची सीट पर तो माना जा रहा है कि सुबोधकांत सहाय को ही टिकट मिलेगा. कांग्रेस की ओर से रामटहल चौधरी से समर्थन की मांग की गयी है. लोहरदगा सीट को लेकर दावेदार ज्यादा होने की वजह से कांग्रेस प्रत्याशी की घोषणा नहीं कर रही है. खूंटी को लेकर भी कांग्रेस की स्थिति स्पष्ट नहीं हो पा रही है. 

झामुमो में दो सीटों पर प्रत्याशियों को लेकर हो रहा है मंथन                      झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के हिस्से में चार सीट आयी है. हालांकि आधिकारिक रूप से झामुमो ने भी प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है. दुमका से शिबू सोरेन और राजमहल से विजय हांसदा तय माने जा रहे हैं. पर गिरिडीह और जमशेदपुर को लेकर अभी भी सस्पेंस बना हुअा है. झामुमो लगातार मंथन कर रहा है कि इन दोनों सीटों पर किन्हें प्रत्याशी बनाया जाये.