51 Views

गढ़वा : जेजेएमपी के एरिया कमांडर समेत दो उग्रवादी गिरफ्तार, गोलियां और 62 उग्रवादी पर्चे बरामद फोटो गिरफ्तार उग्रवादी और जानकारी देते एसडीपीओ मनोज महतो

गढ़वा : जेजेएमपी के एरिया कमांडर समेत दो उग्रवादी गिरफ्तार, गोलियां और 62 उग्रवादी पर्चे बरामद   
फोटो गिरफ्तार उग्रवादी और जानकारी देते एसडीपीओ मनोज महतो 


पलामू/गढ़वा 30 मार्च : नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में पुलिस को एक और सफलता मिली है. गढ़वा पुलिस ने उग्रवादी संगठन जेजेएमपी के दो हार्डकोर सदस्यों को गिरफ्तारा किया है. इनमें से एक रामसुंदर सिंह संगठन का एरिया कमांडर है. उग्रवादियों के पास से हथियार, कारतूस और अन्य आपत्तिजनक चीजें मिली हैं. 
पहले धराया एरिया कमांडर कमांडर  
रंका के एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि जेजेएमपी के कुछ सदस्य सरकारी योजनाओं को बाधित करने के लिए पलामू जिले के रामगढ़ के रास्ते रमकंडा (गढ़वा) आने वाले हैं. सूचना के आलोक में रमकंडा थाना प्रभारी आसित कुमार सिंह और सीआरपीएफ 172 बटालियन के निरीक्षक चन्द्रपाल पटेल ने सशस्त्र बलों के साथ मिलकर गश्त तेज कर दी. साथ ही कई जगहों पर वाहन चेकिंग अभियान शुरू किया गया. इसी क्रम में एक व्यक्ति को हथियार के साथ गिरफ्तार किया गया. बाद में उसकी पहचान जेजेएमपी के एरिया कमांडर रामसुंदर सिंह के रूप में हुई, जो भंडरिया थाना क्षेत्र के कुरूम का रहने वाला है.
एरिया कमांडर की निशानदेही पर पलामू से हाईकोर उग्रवादी गिरफ्तार   
एसडीपीओ ने बताया कि रामसुंदर से जब पूछताछ की गयी तो उसने बताया कि उसके कई साथी सतबरवा में है. इस पर पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए एक टीम को सतबरवा भेजा गया. पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए एक हार्डकोर उग्रवादी संतोष यादव को गिरफ्तार कर लिया. इस दौरान जेजेएमपी के दो उग्रवादी भागने में सफल हो गये.
चैनपुर में रह रहा था हार्डकोर नक्सली 
एसडीपीओ ने बताया कि संतोष यादव रमकंडा का मूल निवासी हैं, लेकिन वर्तमान में वह पलामू जिले के चैनपुर थाना क्षेत्र के शाहपुर में रहता था. उसकी निशानदेही पर रमकंडा थाना ़क्षेत्र के गोबरदाहा से 62 उग्रवादी पर्चे, वर्दी बरामद किये गये. एसडीपीओ ने बताया कि इन दोनों उग्रवादियों की तलाश पुलिस को काफी समय से थी. उन्होंने यह भी बताया कि सतबरवा से भाग निकलने वाले उग्रवादी महेश भुइयां और विष्णु की तलाश तेज कर दी गयी है और उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है. दोनों रमकंडा थाना के रक्शी गांव के निवासी हैं.
हिंसक वारदात को दिया था अंजाम 
एसडीपीओ ने बताया कि पकड़े गए नक्सली अगलगी एवं बड़ी घटना के अंजाम देने के फिराक में थे. उन्होने बताया कि ये नक्सली पर रमकंडा व भंडरिया थाना में कई मामले दर्ज है. इसके अलावा सतबरवा, चैनपुर, रंका, चिनिया में भी सक्रिय रुप से काम करते हैं. पुलिस की इनकी काफी दिनों से तलाश थी. एसडीपीओ ने बताया कि गिरफ्तार उग्रवादी रंका, रमकंडा, भंडरिया में चल रहे विकास योजनाओं में व्यवधान पैदा करते हैं. ठेकेदारों को धमकी देकर लेवी की मांग करते हैं. नहीं देने पर मारपीट करते हैं. 
लेवी के लिए निरंतर ठेकेदारों को दे रहे थे धमकी
एसडीपीओ ने बताया कि पिछले दिनों भंडरिया के बिचका क्षेत्र में सड़क एवं पुलिया निर्माण में नक्सलियों ने निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के साथ गाली-ग्लौज करते हुए मारपीट की थी. इसके बाद पुलिस सुरक्षा में निर्माण कार्य कराया जा रहा है. एसडीपीओ ने बताया कि पकड़े गए नक्सलियों द्वारा लेवी के लिए निरंतर ठेकेदारों को धमकाया जाता है. लेवी लेने के आरोप में भंडरिया थाना के फकिराडीह निवासी नंदलाल चौधरी, रामगढ़ थाना के उलपान निवासी फुनेश्वर सिंह को पूर्व में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है .एसडीपीओ ने बताया कि शेष नक्सलियों को गिरफ्तारी के लिए छापामारी की