181 Views

भाजपा के शासन में आदिवासियों का हुआ तेजी से विकास

          पहले दिन एक भी नामांकन नहीं  
डालटनगंज, 2 अप्रैल : 13 पलामू सुरक्षित (अ.जा.) सीट के लिए शुरू हुई नामांकन प्रक्रिया के दौरान आज पहले दिन एक भी नामांकन नहीं हुआ। हालांकि पहले दिन छह लोगों ने नामांकन के पत्र खरीदे। नामांकन फार्फ खरीदने वालों में पूर्व मंत्री दुलाल भुइयां और उनकी पत्नी अंजना भुइयां, पूर्व सांसद घुरन राम, बालकेश पासवान, सत्येन्द्र कुमार पासवान एवं एक अन्य शामिल हैं। 
पूर्वाहन 11 बजे से अपराहन तीन बजे तक नामांकन का समय निर्धारित था। इस निर्धारित अवधि में नामांकन पत्र लेने के लिए पलामू के निर्वाची पदाधिकारी डा. शांतनु कुमार अग्रहरि समाहरणाल स्थित अपने कार्यालय में बैठे रहे, लेकिन कोई उम्मीदवार नामांकन दाखिल करने के लिए नहीं पहुंचा। नामांकन की प्रक्रिया नौ अप्रैल तक चलेगी। स्क्रूटनी दस अप्रैल को होगी। नाम वापसी की तिथि 12 अप्रैल है। इसी दिन उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आवंटित कर दिए जायेंगे।   
        
भाजपा के शासन में आदिवासियों का हुआ तेजी से विकास
डालटनगंज 02 अप्रैल: भाजपा अनुसूचित जन जाति मोर्चा के पलामू लोकसभा प्रभारी सह मनिका विधायक हरेकृष्णा राम ने आज यहां भाजपा के जिला कार्यालय में जिलाध्यक्ष नरेन्द्र पांडेय की मौजूदगी में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि भाजपा की सरकार में आदिवासियांे का तेजी से विकास हुआ है। श्री कुमार ने कहा कि वे लोकसभा चुनाव के दौरान आदिवासियों के गांव-गांव जाकर सरकार द्वारा चलायी जा रही योजना से उन्हें अवगत करायेंगे और देश पुनः नरेन्द्र मोदी की सरकार बने, इसके लिए भाजपा के पक्ष में मतदान करने की अपील करेंगे।  
उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने आदिवासियों की संस्कृति की रक्षा कराने में अहम भूमिका निभायी है।उन्होंने कहा कि मंडल डैम में विस्थापितों की एक बड़ी समस्या है। सरकार पहले उन्हें पुर्नवासित करें तब मंडल डैम का कार्य शुरू करे। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के बीच धर्मान्तरण एक गंभीर समस्या है। समाज के कुछ लोगांे के बहकावे में आकर धर्म परिवर्तन कर रहे हैं। भाजपा उनकी संस्कृति की रक्षा कराने की दिशा में पहल कर रही है। उन्होंने कहा कि इस अंधविश्वास को जागरूकता के बदौलत दूर किया जा सकता है। इस मौके पर मीडिया प्रभारी शिव कुमार मिश्रा, उपेन्द्र सिंह और अवधेश सिंह चेरो उपस्थित थे।

जयराम उरांव ने डा. मेहता के समक्ष थामा झामुमों का दामन
डालटनगंज 2 अप्रैल: आजादी के 70 साल तक आदिवासी मूलवासियों का विकास शून्य है। झामुमों को जीतने से गरीब गुरबों, आदिवासियों का विकास में हिसेदारी एवं सत्ता में भागीदारी मिल पायेगा। उस उक्त बात झामुमों केंद्रीय सचिव डा. शशिभूषण मेहता ने मिलन समारो में कही। इस समारोह मे जयराम उरांव ने हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में बनने वाली अगली सरकार की भागीदारी निभाते हुए अपने समर्थकों के साथ डॉ. शशिभूषण मेहता के समक्ष झारखंड मुक्ति मोर्चा की सदस्यता ग्रहण किया। 
डॉ. मेहता ने सभी को माला पहनाकर पार्टी में स्वागत किया। उन्होंने कहा कि जयराम उरांव के आने से झामुमों काफी मजबूती होगी। श्री उरांव ने कहा कि झारखंड में यदि कोई विश्वसनीय पार्टी है तो वह है झामुमो। झामुमो कभी जनता से झूठ नहीं बोलती। इसलिए जनता इस पर विश्वास करती है।
श्री उरांव ने कहा कि श्री मेहता के संघर्ष और इनकी सोच से प्रभावित होकर मैंने इनके साथ कदम से कदम मिलाकर चलने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि गरीबों के आँसू पोछने के साथ-साथ क्षेत्र के जनता के सुख-दुख में लगातार शामिल रहते आ रहे हैं। झामुमो में शामिल होने वालो में कवलेश उरांव, कामेश्वर उरांव, महेंद्र उरांव, परमेश्वर उरांव, मदन उरांव, प्रमोद उरांव, चंद्रिका उरांव, लखन उरांव, वीणा कुमारी, ज्योति उरांव, सीता उरांव, कम्मि देवी सहित कई लोग उपस्थित थे।