212 Views

पलामू: 6 को लगेगा बिहार-झारखंड के दिग्गज नेताओं का

पलामू: 6 को लगेगा बिहार-झारखंड के दिग्गज नेताओं का जमावड़ा, पार्टी नेता तैयारियों को धार देने में जुटे 
फोटो: जानकारी देते महागठबंधन के पलामू जिलास्तरीय नेता  
पलामू 4 अप्रैल: लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पलामू में आगामी 6 अप्रैल को दिग्गजों का जमावड़ा लगेगा. बिहार और झारखंड के बड़े नेता एनडीए और महागठबंधन के पलामू संसदीय सीट के प्रत्याशियों के नामांकन में भाग लेंगे. इसकी तैयारी में पार्टी नेता जुटे हुए हैं. गांव-गांव जनसंपर्क साधा जा रहा है. लोगों को अपने पक्ष में गोलबंद करने की हर स्तरों पर कोशिश की जा रही है। 
महागठबंधन प्रत्याशी के पक्ष में सभा करेंगे तेजस्वी यादव 
बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव यहां महागठबंधन के प्रत्याशी घूरन राम के नामांकन से पूर्व गांधी मैदान में आयोजित सभा को संबोधित करेंगे. महागठबंधन के नेताओं ने गुरूवार को शहर के एक होटल में पत्रकारों को इसकी जानकारी दी. नेताओं ने कहा कि महागठबंधन के प्रत्याशी के रूप में घूरन राम उस दिन 12 बजे नामांकन दाखिल करेंगे. इसके पूर्व महागठबंधन के कई दिग्गज नेता भी गांधी मैदान में चुनावी सभा में भाग लेंगे.
महागठबंधन किया 14 सीटें जीतने का दावा 
महागठबंधन के नेताओं ने कहा कि राजद प्रत्याशी घूरन राम के पक्ष में महागठबंधन के सभी नेता व कार्यकर्ता पूरी ईमानदारी के साथ चुनाव में भाग लेंगे, ताकि महागठबंधन के प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित हो सके. कांग्रेस केे जिलाध्यक्ष बिट्टू पाठक ने कहा कि महागठबंधन झारखंड की सभी 14 सीटों पर जीत हासिल करेगी. 
भाजपा पर साधा निशाना 
कांग्रेस जिला अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा की सरकार ने देश की जनता को केवल भाषण और आश्वासन के नाम पर छलने का काम किया है. उन्होंने महागठबंधन के तमाम घटक दलों से अपील की है कि वे भारी संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ नामांकन प्रक्रिया में भाग लें. इस मौके पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के पलामू जिलाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद सिन्हा, राजद के जिलाध्यक्ष शंकर यादव, झारखंड विकास मोर्चा जिलाध्यक्ष मुरारी पांडेय, कांग्रेस शिक्षा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह, शमीम अहमद राईन, राजद नेता विजय कुमार, महावीर चन्द्रवंशी और झामुमो नेता राजमुनी मेहता सहित कई लोग उपस्थित थे।
वीडी राम का नामांकन 6 को
एनडीए उम्मीदवार वीडी राम भी 6 अप्रैल को ही नामांकन दाखिल करेंगे. इसके पूर्व शिवाजी मैदान में चुनावी सभा का आयोजन किया गया है, जिसमें झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास और प्रदेश प्रभारी मंगल पांडेय के अलावा भाजपा के कई वरिष्ठ नेता भाग लेंगे. भाजपा के मीडिया प्रभारी शिव कुमार मिश्रा ने पार्टी के तमाम नेताओं और कार्यकर्ताओं सहित पलामू संसदीय क्षेत्र के ग्रामीणों से अपील की है कि वे नामांकन कार्यक्रम में पहुंचे और कार्यक्रम को सफल बनायें. श्री मिश्रा ने कहा कि भाजपा उम्मीदवार वीडी राम की जीत सुनिश्चित है. पलामू की जनता देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आशा भरी निगाहों से देख रही है.
शहर रहेगा अस्त-व्यस्त
मुख्यमंत्री सहित अन्य बड़े नेताओं के आगमन से 6 अप्रैल को जिला मुख्यालय मेदिनीनगर का जनजीवन अस्त-व्यस्त रहने की संभावना है. बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं और समर्थकों के आने से शहर की रफ्तार पर असर पड़ेगा. समान्य जीवन जीने वाले शहरवासी इस दिन परेशान नजर आयेंगे. एक साथ कई वाहनों के शहर में प्रवेश करने से यातायात पर असर पड़ने की पूरी संभावना व्यक्त की जा रही है. पूर्व की कई जनसभाओं और नामांकन के समय ऐसे हालात बनते रहे हैं. जिला प्रशासन के लिए ऐसी स्थितियों से निपटना किसी चुनौती से कम नहीं होगा. 

वार्षिक पौधा रोपण सह वितरण अभियान का हुआ समापन
पर्यावरणविद कौशल ने दस माह में बांटे दो लाख पौधे
डालटनगंज 04 अप्रैल: पर्यावरण धर्म और वनराखी मूवमेंट के प्रणेता कौशल किशोर जायसवाल द्वारा शुरू किया गया पौधारोपण सह वितरण के वार्षिक अभियान का कल समापन हो गया। असम के कामरूप मेट्रो जिले के गल्र्स हाईस्कूल मंे आयोजित कार्यक्रम में इस अभियान के समापन की घोषणा की गयी।
पर्यावरणविद श्री जायसवाल ने इस वर्षिक अभियान की शुरूआत पलामू जिले के छत्तरपुर स्थित डालीबाजाार के कौशल नगर में पिछले वर्ष जुलाई मंे एक शिविर आयोजित कर की थी। शिविर का उद्घाटन प्रमंडलीय आयुक्त मनोज कुमार झा ने किया था।  इस अभियान के तहत दो लाख पौधों के निःशुल्क वितरण और रोपण का लक्ष्य रखा गया था, जिसे श्री जायसवाल ने पूरा किया। श्री जायसवाल नेपाल और भूटान के अलावा देश के 6 राज्यों में अभियान चलाया और न केवल पौधों का निःशुल्क रोपण और वितरण किया, बल्कि लोगांे को पर्यावरण  संरक्षण के लिए प्रेरित भी किया।
पिछले पांच दिनों से पश्चिम बंगाल और असम के कई जिलों में अभियान चलाते हुए श्री जायसवाल का कारवां कामरूप मेट्रो जिला पहुंचा। यहां गल्र्स हाईस्कूल में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने छात्राओं, अभिभावकों और आम नागरिकों को पर्यावरण धर्म के आठ मूल मंत्रों का पाठ पढ़ाते हुए श्री जायसवाल ने पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलायी। स्कूल की प्राचार्या करूणानाथ की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम के दौरान शिक्षक और शिक्षिकाओं में श्री जायसवाल द्वारा पर्यावरण संरक्षण की दिशा में किए जा रहे कार्यों की सराहना की और उन्हें पुनः आने का न्योता दिया। मौके पर श्री जायसवाल द्वारा संचालित संस्था की प्रधान महासचिव पूनम जायसवाल ने भी पौधा वितरण और रोपण कर लोगांे को पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। इस मौके पर अन्य लोगों के अलावा दीपक बरूआ, वीरेन्द्र गोस्वामी, दीपक मेघा, सुनील ठाकुरिया, प्रदीप मजूमदार और धर्मकांत दास भी मौजूद थे। 
बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि पर्यावरण धर्म व वनराखी मूवमेंट के 42 वर्ष और निःशुल्क पौधा वितरण सह रोपण अभियान के 52 वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में वर्ष 2018-19 में इस विशेष अभियान की शुरूआत की गयी थी। उन्होंने बताया कि पिछले 52 वर्षों में उनके द्वारा नेपाल, भूटान के अलावा देश के 20 राज्यों के 75 जिलों में 37 लाख पौधों का निःशुल्क वितरण और रोपण किया जा चुका है। इसके अलावा वनराखी मूवमेंट के तहत अब तक पांच लाख वन वृक्षांे पर राखियां बांधी गयी है और वन बचाने वाली करीब एक लाख महिलाओं को साड़ियां और शाॅल देकर सम्मानित किया गया है। उन्होंने बताया कि आगे भी इस प्रकार के कार्यक्रम जारी रहेंगे और पौधा रोपण सह वितरण के अलावा लोगांे को पर्यावरण धर्म के आठ मूलमंत्रों की शपथ दिलायी जायेगी। 

सभी छात्रावासों की हालत दयनीय
डालटनगंज 04 अप्रैल : मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र में कल्याण विभाग द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति के बालक-बालिकाओं के लिए कुल सात छात्रावास संचालित हो रहे हैं, लेकिन सभी की स्थिति काफी दयनीय है। इस सिलसिले में अनुसूचित जाति-जनजाति छात्र संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष उदय राम ने जिला कल्याण पदाधिकारी को आवेदन सौंपकर छात्रावासों की मूलभूत समस्याओं के समाधान का अनुरोध किया है। 
श्री राम ने कहा है कि छात्रावासों में शौचालय और पेयजल के अलावा बेड के भी आभाव है। छात्रावास भवनों की स्थिति जर्जर हो गयी है। प्लास्टर टूट-टूट कर गिर रहा है। मोर्चा नेता ने कहा कि छात्रावासों की खिड़कियां और दरवाजें भी बेकार हो गये हैं। बिजली के तार इधर-उधर लटकते रहते हैं। 
गौरतलब है कि झारखंड अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष शिवधारी राम ने दिसंबर 2018 में इन जर्जर छात्रावासों का निरीक्षण किया था और तीन माह में छात्रावासों की समस्याओं का समाधान करने का भरोसा दिलाया था, लेकिन अब तक इस दिशा में कोई पहल नहीं होई है।