स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस में कोई गैंगरेप नहीं- रेल पुलिस


रेल प्रशासन के अनुसार पीड़िता के साथ ट्रेन में दुष्कर्म नहीं हुआ था, बल्कि अपने घर पंजाब गई इस युवती के साथ लौटने के दौरान उसकी सहमति से उसके प्रेमी ने संबंध बनाया


जिस स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस गैंगरेप मामले को लेकर रेलवे पुलिस पर सवाल खड़े किये जा रहे थे, उसी मामले को सिरे से खारिज करते हुए रेलवे प्रशासन ने दावा किया है कि ट्रेन में कोई गैंगरेप हुआ ही नहीं था. रेलवे पुलिस का कहना है कि पीड़िता ने प्रेमी के साथ सहमति से संबंध बनाने के बाद गैंगरेप की मनगढ़ंत कहानी बनाई. रेलवे पुलिस अब उस प्रेमी की तलाश में जुट गई है.


इस सिलसिले में रांची के जीआरपी थाने में कांड दर्ज हुआ था. जांच के बाद रेल प्रशासन ने नया खुलासा किया है. रेल प्रशासन के अनुसार पीड़िता के साथ ट्रेन में दुष्कर्म नहीं हुआ था, बल्कि अपने घर पंजाब गई इस युवती के साथ लौटने के दौरान उसकी सहमति से उसके प्रेमी ने संबंध बनाया.


रेल एसपी संगीता कुमारी की माने तो लड़की 19 वर्ष से ज्यादा की है और दिल्ली से रांची पहुंचने के बाद उसने मनगढ़ंत कहानी बनाकर मामला दर्ज कराया. इस संबंध में रेल प्रशासन ने न्यायालय में लड़की का 164 का बयान भी दर्ज कराने का दावा किया है और जल्द ही प्रेमी के पकड़े जाने की बात कही है.


बीते 6 फरवरी को चलती ट्रेन में हुए तथाकथित गैंगरेप की घटना तब सामने आयी, जब लड़की ने जान देने की नीयत से जहर खा लिया. जहर खाने के बाद लड़की को गुरुनानक अस्पताल में भर्ती कराया गया. पहले चुटिया थाना ने मामले में लड़की का फर्द बयान लिया फिर जीआरपी थाने में बयान दर्ज किया गया. दोनों बयान अलग अलग निकले. इस दरम्यान लड़की का मेडिकल कराया गया, जिसमें गैंगरेप नहीं होने की बात सामने आई....