पलामू की खबरें -मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया था, एक गंभीर , रेलवे कोर्ट के एएसआई की मौत मशीन में फंसकर किसान की मौत

01-

डालटनगंज 23 फरवरी: पलामू जिले के नौडीहा बाजार थाना क्षेत्र अंतर्गत झुनझुलू पहाड़ पर गत-आठ फरवरी को पुलिस और सीआरपीएफ के साथ मुठभेड़ में शामिल हार्डकोर नक्सली राजेंद्र भुइंया ने शुक्रवार को सरेंडर कर दिया। पुलिस लाईन में आयोजित एक समारोह के दौरान राजेंद्र भुइंया ने पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा, सीआरपीएफ 134 बाटालियन के कमांडेंट सतीश कुमार लिंडा के समक्ष आत्मसमर्पण किया। राजंेद्र भुइंया 10 लाख के ईनामी राकेश भुईयां के दस्ते में सक्रिय सदस्य था।

मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया था, एक गंभीर    

झुनझुलू पहाड़ पर सब जोनल कमांडर राकेश भुइंया के दस्स्ते के साथ पुलिस की पुलिस की मुठभेड़ हुई थी। इस कार्रवाई में भाकपा माओवादी का एक उग्रवादी मारा गया था, जबकि एक महिला सदस्य को गोली लगी थी, जिसका ईलाज सदर अस्पताल में पुलिस की देख रेख में कराया जा रहा है। वर्तमान में वह स्वस्थ्य व सुरक्षित है। इस मुठभेड़ के बाद दस्ते के कुछ सदस्य भाग गये थे, जो पुनः दस्ते में शामिल नहीं होना चाहते थे। उस मुठभेड़ में शामिल राजेंद्र भुइंया मुठभेड़ के बाद भाग गया था। इसके बाद राजेंद्र के परिजनों ने पुलिस से सपंर्क किया। पुलिस ने सरकार द्वारा चलायी जा रही आत्मसमर्पण नीति की जानकारी दी, इसके बाद उसने आत्मसर्पण का इरादा बनाया।

भाकपा माओवादी में चार-पांच नाबालिग बच्चे

माओवादी राकेश भुइयां के दस्ते में अभी भी चार से पांच नाबालिग बच्चे शामिल हैं। पुलिस उन सभी को मुख्यधारा में लाने की दिशा में कार्रवाई कर रही है। राजेंद्र भुइंया के विरूद्ध छतरपुर और नौडीहा बाजार थाना दो अपराधिक मामले दर्ज है। पलामू पुलिस के लिए यह स्वर्णिम पल है, जहां कोई 18 साल का युवक नक्सली से समाज की मुख्यधारा में जुड़ा है। 

माला पहनाकर एसपी ने किया स्वागत 

एसपी ने माला पहनकर नक्सली का स्वागत किया और 50 हजार रूपया नगद राशि दी। इस कार्य के लिए एसपी ने उसके परिजनों को बधाई भी दी। इस मौके पर सीआरपीएफ के कमांडेंट सतीश लिंडा ने कहा कि नक्सल अभियान में सीआरपीएफ का सहयोग पलामू पुलिस के साथ बना रहेगा। और नक्सल को कुछ ही दिनों में जड़ से समाप्त कर दिया जायेगा। नक्सली कमांडर बेरोजगारी का फायदा उठाकर युवाओं को नक्सल अभियान में शामिल करात है। उन्होंने समाज के भटके लोगों से अपील की कि वे मुख्यधार में जुड़े और सरकार द्वारा दी जा रही सुविधा का लाभ ले। 

मौके पर अभियान एसपी अरूण कुमार सिंह, डीएसपी वन सुरजीत कुमार, छतरपुर डीएसपी शंभू कुमार सिंह, प्रशिक्षु डीएसपी विमलेश त्रिपाठी, चंद्रशेखर आजाद, सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट संजय मोहंती के अलावे, कार्यपालक दंडाधिकारी सुधीर कुमार, नौडीहा बाजार और छातरपुुर के थाना प्रभारी के साथ कई पुलिस पदाधिकारी और पुलिस बल के जवान शामिल थे।



02-

डालटनगंज रेलवे कोर्ट के एएसआई की मौत

डालटनगंज, 23 फरवरी: डालटनगंज रेलवे कोर्ट में कार्यरत सहायक पुलिस अवर निरीक्षक विरेन्द्र कुमार सिंह (58वर्ष) की मौत हो गयी। गुरूवार को दिन भर अपनी सेवा देने के बाद एएसआई कल रात करीब नौ बजे प्रतिदिन की तरह अपने बैरक में सोने चले गए। सुबह में नियमित समय पर जब वे नहीं जगे तो उनके सहकर्मियों ने उन्हें उठाने का प्रयास किया, लेकिन वे मृत पाए गए। 

एएसआई की मौत की सूचना मिलने पर उन्हें आनन-फानन में सदर अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत पाया। चिकित्सकों के अनुसार एएसआई की मौत हाई अटैक से हुई प्रतीत होता है। बाद में उनका पोस्टमार्टम डा. जाॅन एफ कनेडी ने किया। साथ ही भेसरा जांच के लिए सुरक्षित रख दिया गया है।

पूर्वाहन में उनका शव पुलिस लाइन ले जाया गया, जहां पुलिस अधिकारियों ने उन्हें सलामी दी गयी। बाद में उनके पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव भेज दिया गया।  

विरेन्द्र कुमार सिंह ने करीब पांच माह पूर्व रेल थाना में अपना योगदान दिया था। उनका पैतृक गांव बिहार के भोजपुर जिला अंतर्गत सिनहा घाट के बड़गरा में है। स्वभाव से मिलनसार विरेन्द्र सिंह काफी कम समय में ही साथी पुलिस पदाधिकारियों और जवानों में घुल मिल गए थे। उनकी मौत से पुलिस महकमे के साथ-साथ रेलवे के अधिकारी हतप्रभ हैं।


03-

मशीन में फंसकर किसान की मौत   

लातेहार, 23 फरवरी: कहा जाता है कि काल कब किस रुप में आ जाए कोई नहीं जानता। ऐसा ही एक मामला लातेहार जिले के चंदवा प्रखंड के शासंग गांव में हुआ। इस गांव का व्यक्ति रविंद्र यादव अपने परिवार के लिए भोजन की व्यवस्था कर रहा था, परंतु काल ने उसे अपना ग्रास बना लिया। परिस्थितियां ऐसी हो गई कि रविंद्र यादव के परिवार के सामने भोजन पर भी आफत आ गई। 

जानकारी के अनुसार रविन्द्र यादव अपने घर के पास शुक्रवार को धान कूट रहा था। इसी दौरान अचानक उसका शॉल मशीन में फंस गया और शॉल में उसका गला दब गया। जब तक परिवार वाले कुछ समझ पाते तब तक गला दबने से उसकी मौत हो गई। 

मृतक रविंद्र यादव अपने परिवार का एकलौता कमाऊ व्यक्ति था। रविंद्र के जिम्मे ही उसके बूढ़े माता-पिता, पत्नी और दो बच्चों की जिम्मेवारी थी। रविंद्र के बड़े भाई की हत्या कुछ वर्ष पूर्व नक्सलियों ने कर दी थी। तब से इसी के ऊपर थी। इसकी मृत्यु के बाद परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। 

04-

ईट भट्ठे पर हादसा, मजदूर की मौत

डालटनगंज, 23 फरवरी: पलामू जिले के नावाजयपुर थाना क्षेत्र पकरिया गांव में कल रात एक ईंट भट्ठेे पर हादसा होने से उसमें दबकर मजदूर की मौता हो गयी। मजदूर की पहचान पकरिया निवासी सत्येन्द्र शर्मा के रूप में हुई है। सत्येन्द्र भट्ठे पर काम कर रहा था। इसी दौरान पकने के लिए लगायी गयी ईंट भरभरा कर गिर पड़ी, जिसमें दबने से सत्येन्द्र शर्मा बुरी तरह जख्मी हो गया। आनन-फानन में उसे इलाज के लिए नजदीक के स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गयी। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया। पोस्टमार्टम के लिए शव उसके परिजनों को सौंप दिया गया है। घटना की जांच की जा रही है।