मन की बात' लाइव: नेशनल साइंस डे पर पीएम ने बधाई, आज विज्ञान पर हो रही चर्चा, मुख्यमंत्री सचिवालय, रांची

 


राँची- भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी में मन की बात में झारखंड की महिलाओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि देश के सामने झारखण्ड की महिलाओं ने मिसाल कायम किया है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान को लेकर झारखण्ड की 15 लाख महिलाओं ने संगठित हो कर एक माह का स्वच्छता अभियान शुरु किया।  26 जनवरी 2018 से शुरू हुए इस, अभियान के तहत मात्र 20 दिन में ही महिलाओं ने 1 लाख 70 हजार शौचालयों का निर्माण कर एक नई मिसाल कायम की है। इसमें करीब 1 लाख सखी मंडल सम्मलित हुए । 14 लाख महिलाएं , 2 हजार महिला पंचायत प्रतिनिधि, 29 हजार जल सहय्या और 10 हजार महिला स्वच्छताग्रही व  50 हजार महिला राज मिस्त्री मिलकर काम कर रहे हैं।  झारखण्ड की इन महिलाओं ने दिखाया है कि नारी शक्ति स्वच्छ भारत अभियान की एक ऐसी शक्ति है जो सामान्य जीवन में स्वच्छता के अभियान को, स्वच्छता के संस्कार को प्रभावी ढंग से जन समान्य के स्वभाव में परिवर्तित कर रही हैं।


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (25 फरवरी) को अपने साप्ताहिक कार्यक्रम 'मन की बात' में विज्ञान पर बात की. उन्होंने विज्ञान के क्षेत्र में भारत के योगदान को रेखांकित किया. उन्होंने कहा, 'इस देश ने विज्ञान के क्षत्र में कई महान वैज्ञानिकों को जन्म दिया है. एक तरफ महान गणितज्ञ बौधायन, भास्कर, ब्रह्मगुप्त और आर्यभट्ट की परंपरा रही है.' पीएम मोदी ने कहा, 'सर जगदीश चन्द्र बोस और हरगोविंद खुराना से लेकर सत्येन्द्र नाथ बोस जैसे वैज्ञानिक-ये भारत के गौरव हैं | सत्येन्द्र नाथ बोस के नाम पर तो famous particle ‘Boson’ का नामकरण भी किया गया.' पीएम मोदी ने कहा, 'प्राकृतिक आपदाओं को अगर छोड़ दें तो ज्यादातर दुर्घटनाएं, हमारी कोई-न-कोई गलती का परिणाम होती है. अगर हम सतर्क रहें, आवश्यक नियमों का पालन करें, तो हम ओबे जीवन की रक्षा तो कर हे सकते हैं.'  

  

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के माध्यम से किस तरह दिव्यांग भाइयों और बहनों का जीवन सुगम बनाने में मदद मिल सकती है, प्राकृतिक आपदाओं के बारे में बेहतर अनुमान लगा सकते हैं, किस तरह फ़सलों की पैदावार बढ़ने में सहायता कर सकते हैं? उन्‍होंने कहा कि अहमदाबाद के एक नौजवान ने एक ऐसा यन्त्र बनाया है जिससे AI के माध्यम से अपनी बात लिखते ही वो आवाज में बदल जाती है और इस तरह एक बोल सकने वाले व्यक्ति के साथ संवाद किया जा सकता है AI का उपयोग ऐसी कई विधाओं में किया जा सकता है.   

  

उन्‍होंने कहा कि नेशनल साइंस डे के अवसर पर मैं हमारे वैज्ञानिकों और विज्ञान से जुड़े सभी लोगों को बधाई देता हूं. हमारी युवा-पीढ़ी, सत्य और ज्ञान की खोज़ के लिए प्रेरित हो, विज्ञान की मदद से समाज की सेवा करने के लिए प्रेरित हो, इसके लिए मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं.