हुसैनाबाद अनुमंडल स्तरीय संत रविदास एवं बिहार लेनिन जगदेव प्रसाद की जयंती समारोह का हुआ आयोजन।


    पलामू - हुसैनाबाद के  स्थानीय कर्पूरी मैदान में आयोजित अनुमंडल स्तरीय संत शिरोमणि रविदास एवं बिहार लेनिन शहीद जगदेव प्रसाद के जयंती समारोह को संबोधित करते हुए विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने कहा कि संत शिरोमणि रविदास जी एवं बिहार लेनिन शहीद जगदेव प्रसाद समाज के लिए आईना थे। उनके पदचिन्हों पर चलकर ही समाज मे व्याप्त बुराइयों को दूर किया जा सकता है। समारोह कार्यक्रम का शुभारंभ बतौर मुख्य अतिथि सह विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता, बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शत्रुध्न कुमार शत्रु व बसपा नेता हरि यादव द्वारा संयुक्त रूप से संत शिरोमणि रविदास जी एवं बिहार लेनिन शहीद जगदेव प्रसाद के तस्वीर के समक्ष दीप प्रज्वलित कर एवं माल्यार्पण कर किया गया। विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने संत रविदास जी के जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कवि संत शिरोमणि रविदास जी उन महान संतों में अग्रणी थे, वहीं बिहार लेनिन नाम से मशहूर शहीद जगदेव प्रसाद प्रारम्भकाल से ही गरीब, दलित व पिछड़े वर्ग के हक़-अधिकार के लिए लड़ते रहे।आगे उन्होंने कहा कि जगदेव बाबू सामंती व जमींदारी व्यवस्था के विरोधी थे। आज हमें भी संगठित और शिक्षित होकर राजनीतिक गतिविधियों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की आवश्यकता है, तभी हमारा और हमारे समाज का सर्वांगीण विकास हो सकता है, प्रदेश अध्यक्ष शत्रुध्न कुमार शत्रु ने कहा की संत रैदास जी ने सबको परस्पर मिल-जुलकर रहने का उपदेश दिया है, जबकि बिहार के लेनिन के नाम से विख़्यात शहीद जगदेव बाबू क्रांतिकारी राजनेता थे, जिन्होंने एक अच्छे समाज को गढ़ने में जी-जान लगा दी। आज हमें भी ज़रूरत है महापुरुषों के पद्चिन्हों पर चलने की, ताकि समाज में जनक्राँति हो सके। इन लोगों के साथ ही उपस्थित कई वक्ताओं ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये। 


     अनुमंडल स्तरीय जयंती समारोह की अध्यक्षता बहुजन समाज पार्टी के जिला अध्यक्ष संतोष कुमार गुप्ता ने किया, जबकि मंच-संचालन बहुजन समाज पार्टी के प्रमंडलीय को-आडेनेटर अजय कुमार भारती ने किया। मौके पर सुप्रसिद्ध लोकगायकों द्वारा दुगोला मुक़ाबला के माध्यम से दोनों महापुरुषों के जीवन पर प्रकाश भी डाला गया। मौके पर मुख्य रूप से बसपा के अनुमंडलीय अध्यक्ष अक्षय कुमार मेहता, प्रखंड अध्यक्ष पीयूष सुमन, मुखिया लालधन ठाकुर, मुकेश कुमार मेहता, हरिनन्दन कुमार सहित सैकड़ों अन्य लोग मौजूद थे।