जांच होने पर सामने आसकता है एक और बड़ा घोटाला, सेनेटरी नैपकिन की प्रत्येक वर्ष होती है खरीद, अबतक एक भी किशोरी को नहीं मिला सैनेटरी नैपकिन, अभी भी गांव में पुराने कपड़े का करती हैं इस्तेमाल


पलामू- हुसैनाबाद समेत संपूर्ण पलामू जिले में एक बड़े घोटाला की आशंका व्यक्त की जा रही है। जिले में प्रत्येक वर्ष सेनेटरी नैपकिन स्वास्थ्य विभाग के द्वारा खरीद की जाती है। मगर उसका इस्तेमाल कहां हो रहा है यह किसी को जानकारी नहीं है। अस्पतालों में महिलाओं को प्रसव के बाद भी सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध नहीं कराया जाता है। सभी स्कूलों में किशोरी को नैपकिन उपलब्ध कराने इस संबंध में जागरुक करने का कार्यक्रम कागजों में बदस्तूर जारी है। पंचायत समिति सदस्य रामप्रवेश सिंह ने इसे एक बड़ा घोटाला करार दिया है। उन्होंने कहा है कि वह जिले के सिविलसर्जन से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी प्राप्त करेंगे। जिले में कहां कहां कब कब कितना सेनेटरी नैपकिन की खरीद की गई उसे कहां कहां वितरित किया गया। उन्होंने बताया कि खरीद बड़े पैमाने पर की गई है। जबकि जिले के किसी विद्यालय, अस्पताल या आंगनवाडी केंद्र के माध्यम से इसे वितरित नहीं किया गया है। उन्होंने सरकार से इस संबंध में उच्च स्तरीय जांच कराने दोशी लोगों पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि ऐसा नहीं करने पर वह उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर कर मामले की जांच कराने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि उन्होंने हैदरनगर के चिकित्सा पदाधिकारी से इस संबंध में जानकारी प्राप्त की है। उन्होंने कहा है कि उनके अस्पताल में सेनेटरी नैपकिन की आपूर्ति अबतक नहीं की गई है। आखिर खरीदी गई नैपकिन कहां जा रही है या उसकी खरीद सिर्फ कागजों में ही होती है। यह आने वाला समय ही बतायेगा। हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न विद्यालय के प्राचार्य बीइइओ ने भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा सेनेटरी