झारखंड एवं बिहार पुलिस के लिए सिरदर्द बना जेजेएमपी नामक उग्रवादी संगठन के सक्रिय व कुख्यात सरगना अरविंद राम को गिरफ़्तार



     विनोद सागर, झारखंड समय, ब्यूरो प्रमुख, हुसैनाबाद : अपने कार्य एवं कर्तव्यों का सही से निर्वहन करते हुए एक बार फिर हुसैनाबाद पुलिस ने झारखंड एवं बिहार पुलिस के लिए सिरदर्द बना जेजेएमपी नामक उग्रवादी संगठन के सक्रिय व कुख्यात सरगना अरविंद राम को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता पाई। अरविंद राम झारखंड और बिहार जिले में एक दर्जन उग्रवादी कांड का आरोपी है। विदित हो कि पलामू पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत महथा को गुप्त सूचना मिली थी कि जेजेएमपी के नाम से लेवी वसूल करने वाले कुछ गिरोह हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र में काफी सक्रिय रूप से अपराध को अंज़ाम दे रहे हैं और उन सबका नेतृत्व उस गिरोह का सरगना अरविंद राम कर रहा है। इस सूचना के आधार पर पलामू एसपी के द्वारा एक टीम गठित की गई। इस टीम में हुसैनाबाद पुलिस पदाधिकारी मनोज कुमार महतो के नेतृत्व में जेजेएमपी का मुख्य सरगना अरविंद राम को जपला पथरा बाँध से संध्या में गिरफ़्तार करने में बड़ी सफलता पाई। 


     मौके पर प्रेसवार्ता के दौरान एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि अरविंद राम 12 वर्ष की अवस्था से ही माओवादी-उग्रवादी संगठन से जुड़ा हुआ था। बीच में माओवादी-उग्रवादी संगठन को छोड़कर टीपीसी का सक्रिय सदस्य बना और पिछले वर्ष जेल से छूटने के बाद अरविंद राम अपना संगठन जेजेएमपी के नाम से खड़ा कर बिहार के रोहतास, औरंगाबाद और हुसैनाबाद क्षेत्र में लूट-पाट और लेवी वसूलने का काम कर रहा था। लेवी के लिए बिहार के औरंगाबाद जिला के अंबा थाना क्षेत्र अन्तर्गत एक स्कूली बस से बच्चों को उतारकर उसमें आग लगा दिया था। इतना ही नहीं, वह हुसैनाबाद के दमदमी पहाड़ में चल रहे क्रेसर उद्योग में जाकर लेवी के लिए पर्चा दिया था और लेवी नहीं देने पर मशीनों में आग लगाने की धमकी दिया था। ईंट-भठे आदि में भी जाकर मज़दूरों के साथ मार-पीट कर दहशत पैदा करने का काम कर रहा था। जिस कारण पुलिस को काफ़ी दिनों से इसकी तलाश थी। 


     रोहतास और औरंगाबाद के एडीसनल एसपी ने भी हुसैनाबाद थाने में आकर उक्त उग्रवादी से पूछ-ताछ की। इस टीम में एसडीपीओ के अलावा पुलिस निरीक्षक प्रभाकर सिंह, थाना प्रभारी रास बिहारी लाल, एएसआई उमाकांत तिवारी, एएसआई सुहैल ख़ाँ, मंज़ूर आलम, रंजन टूटी, सुप्रियन लकड़ा, इन्तख़ाब आलम, देवराज कुमार समेत कई जवान शामिल थे।