134 Views

झारखण्ड सरकार के वाहन फाईन और सजा जैसे कानूनी कृत्य को शासक नहीं शोषक की संज्ञा

ब्रजेश कुमार। खूँटी :* सरकार की नाकामी गिनाते व फेलियर सरकार का दर्जा देते हुए झारखण्ड विकास मोर्चा के जिलाध्यक्ष दिलीप मिश्रा ने झारखण्ड सरकार के वाहन फाईन और सजा जैसे कानूनी कृत्य को शासक नहीं शोषक की संज्ञा दे डाली । उन्होंने सरकार द्वारा थोपे गए बोझ को झोली भरने का जरिया बताया ।  यह बात उन्होंने  खूँटी थाना के सामने सड़क के किनारे विरोध प्रदर्शन करते हुए यह बात कही ।  श्री मिश्रा के अगुवाई पर सैकड़ों कार्यकर्ता ऐसे थोपे गए फाईन बोझ का विरोध किया ।  और कहा कि सरकार जनविरोधी है । जो अपनी नाकामी को जनता पर ठीकरा फोड़ने में लगी है । एक ड्राइवरी लाइसेंस बनवाने में ऐड़ी के चप्पल घिस जाते हैं । और समय से बन नहीं पाता है । साथ ही कानून का अनुपालन कराने के पहले यह समझ लेना चाहिए कि झारखण्ड की गरीब जनता दिल्ली और मुंबई जैसे महानगरों के मुकाबले बहुत ही निम्न जीवनशैली है जो कि आर्थिक दण्ड समान न हो यह सरकार के सोच से बाहर की समझ है । सरकार को चाहिए थी कि सभी वाहन कानूनी प्रपत्र की आपूर्ति कैम्प लगाकर बनवाती फिर दण्ड का प्रावधान लाती । तभी श्रेयस्कर होता । इस विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम में मो. यासिन अंसारी, मोईन अंसारी , महेश सिंह, बानू महतो, डोमन सिंह मुंडा, राजेश संगा, अविनाश कुमार, अभिषेक , करुणा, विक्की आदि के अलावे अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे ।