301 Views

साक्षरता कर्मचारियों ने मान सम्मान, हक़ व अधिकार की लड़ाई की तेज,रांची में जोरदार प्रदर्शन किया

 साक्षरता कर्मचारियों ने  मान सम्मान, हक़ व अधिकार की लड़ाई की तेज,रांची में जोरदार प्रदर्शन किया

रांची: बुधवार को श्रीमती नीरा यादव शिक्षा मंत्री झारखंड सरकार के आवास पर झारखंड राज्य साक्षरता कर्मचारी संघ के आह्वान पर पुर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पांच सूत्री माँगों को लेकर अशोक कुमार सिंह राज्य संरक्षक सह राष्ट्रीय महासचिव (N.O.C.G.E) के नेतृत्व मे राज्य स्तरीय धरना प्रदर्शन किया गया। जिसमें झारखंड प्रदेश के हजारों साक्षरता कर्मचारियों ने  मान सम्मान, हक़ अधिकार के लिए एकजुट हुए। प्रदेश के विभिन्न जिला से आए साक्षरता कर्मचारी भाई बहन को सभी जिला के प्रतिनिधित्व करने वाले अगुवा साथी,डीपीएम,

‌ बीपीएम, एवं प्रदेश के पदाधिकारियों ने संबोधित करते हुए वर्तमान शिक्षा मंत्री महोदया से निम्न मांग किए।

‌मांग पत्र - :

1.साक्षरता कर्मचारियों का बकाया मानदेय का भुगतान अविलंब करें।

2. साक्षरता कर्मचारियों को सरकार की किसी अन्य कार्यक्रमों में समायोजन करें।

3.न्यूनतम मजदूरी के आधार पर मानदेय भत्ता निर्धारण करें। 

 4.नई शिक्षा नीति 2019 के नाम पर सेवा समाप्ति की साजिश बंद करें। 

5. शिक्षा विभाग में रिक्त पड़े पदों पर वरीयता के आधार पर नियुक्ति करें। 

बीच कार्यक्रम के दौरान शिक्षा मंत्री के आवास से पांच सदस्यीय शिष्टमंडल को बुलाया गया जिसमें प्रदेश अध्यक्ष संजय कुमार सिंह, महामंत्री अनिल कुमार वर्मा, उप कोषाध्यक्ष रेखा शर्मा, देवघर जिला अध्यक्ष विश्वनाथ रवानी, गोड्डा जिला के डीपीएम मुकेश कुमार जी मंत्री आवास मे उपस्थित होकर शिक्षा मंत्री के उप सचिव अभय सिन्हा से वार्ता किए उन्होंने कहा कि साक्षरता कर्मचारी का बकाया मानदेय एक माह पहले विभाग से निर्गत हो चुका है, मानदेय किस टेबल पर रुका हुआ है उसे जांच कर संबंधित अधिकारी से वार्ता के बाद स्पष्ट हुआ कि एक सप्ताह के अंदर बकाया मानदेय का भुगतान कर दिया जाएगा। साथ ही 21 सितंबर को दिल्ली मे होने वाला सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री का बैठक में साक्षरता कर्मचारियों का किसी अन्य कार्यक्रम मे समायोजन तथा नई शिक्षा नीति के तहत पुनः सेवा बहाल की मांग करते हुए ज्ञापन दिया गया।

झारखंड राज्य साक्षरता कर्मचारी संघ के संरक्षक अशोक कुमार सिंह ने कहा कि यदि हमारी माँगों को एक सप्ताह के अंदर मंत्री महोदया पूरी नहीं करती है तो आगामी 12 अक्तूबर से मुख्यमंत्री आवास पर हठ आंदोलन के लिए साक्षरता कर्मचारी विवश होंगे। धरना कार्यक्रम मे प्रदेश के हजारो हजार साथियों उपस्थित होकर अपनी चट्टानी एकता का परिचय दिए।