पलामू: मुठभेड़ से बचकर भागता फिर रहा इनामी नक्सली धनबाद से गिरफ्तार

डालटनगंज, 18 मार्च: पलामू जिले में आतंक का पर्याय बना और पुलिस मुठभेड़ से बचकर छुपता फिर रहा पांच लाख के इनामी नक्सली विमलेश यादव उर्फ विमल यादव को झारखंड-बिहार पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में धनबाद के अंगरा-पथरा ओपी क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया गया है। जिले के नौडीहा बाजार और छत्तरपुर थाना क्षेत्र के क्रमशः झुनझुनू पहाड़ और मलंगा पहाड़ पर सीआरपीएफ और पुलिस के साथ मुठभेड़ के बाद वह बच निकला था।

राकेश भुइयां के दस्ते में शामिल था  

प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के सबजोनल कमांडर राकेश भुइयां के दस्ते में विमल यादव शामिल था। राकेश के साथ मिलकर विमल ने जिले के छत्तरपुर, नौडीहा बाजार, हरिहरगंज, मनातू, के अलावा सीमावर्ती बिहार में कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया था। छत्तरपुर करमाचराई सड़क निर्माण में लगी मशीनों को फूंकने के अलावा नौडीहा के एक प्राइमरी स्कूल में बम प्लांट की घटनाओं में विमल दस्ते के साथ शामिल था।

पुलिस मुठभेड़ में शामिल था  

गत 8 फरवरी और 26 फरवरी को सीआरपीएफ-पुलिस के साथ हुई भीषण मुठभेड़ में विमल यादव राकेश भुइयां के साथ शामिल था। 26 फरवरी को हुई मुठभेड़ में राकेश भुइयां सहित चार नक्सली मारे गए थे, जबकि विमला मलंगा पहाड़ी के पश्चिमी दिशा से भाग निकला था। घटना के बाद से वह लगातार बचता फिर रहा था। छत्तरपुर अनुमंडल क्षेत्र के अलावा बिहार के औरंगाबाद जिले में आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिए जाने के कारण बिहार पुलिस भी विमल की तलाश में थी। इसी बीच मिली गुप्त सूचना पर विमल को धर दबोचा गया। 

विमल की निशानदेही पर क्या-क्या मिला?

पलामू के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने बताया कि विमल यादव उर्फ गणेश यादव की गिरफ्तारी के साथ उसकी निशानदेही पर नौडीहा बाजार थाना क्षेत्र के जमुनिया पहाड़ से एक 315 बोर की रायफल, लोडेड मैग्जिन, 315 बोर की चार गोलियां, 303 बोर की 20 और 5.5 बोर की 15 गोलियां बरामद की गयी हैं। विमल पर पलामू जिले के विभिन्न थानों सहित सीमावर्ती बिहार मिलाकर कुल 13 आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह बिहार के औरंगाबाद जिला अंतर्गत मदनपुर थाना क्षेत्र के जमुनिया गांव का निवासी है।  

गिरफ्तारी में कौन कौन?

विमल को गिरफ्तार करने में बिहार एसटीएफ के अलावा पलामू के एएसपी अभियान अरूण कुमार सिंह, छत्तरपुर डीएसपी शंभू सिंह, प्रशिक्षु डीएसपी विमलेश त्रिपाठी, नौडीहा बाजार थाना प्रभार दयानंद साहू, के अलावा अन्य पुलिस अधिकारी और जवान शामिल थे।