पलामू: पुल निर्माण स्थल पर माओवादियों की दस्तक, पिटायी के बाद मुंशी की गोली मारकर कर दी हत्या


फोटो कैप्शन: मुंशी गोविंद चन्द्रवंशी का शव। बतरे नदी पर बन रहा पुल। घटनास्थल पर लगी ग्रामीणों की भीड़। खून के धब्बे और घटना के बाद ठप निर्माण कार्य  

डालटनगंज, 22 मार्च: बुधवार की रात प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के नक्सलियों ने एक हिंसक वारदात को अंजाम देकर पुलिस के उसे दावे को झूठला दिया, जिसमें यह कहा गया था कि दो मुठभेड़ और गिरफ्तारी के बाद पलामू जिले से माओवादियों का सफाया हो गया है। माओवादियों ने जिले के हरिहरगंज थाना से महज पांच किलोमीटर दूर हल्का गांव में एक पुल निर्माण की देखरेख कर रहे मुंशी गोविंद चन्द्रवंशी की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के बाद जहां निर्माण कार्य ठप है, वहीं माओवादियों के दस्तक से ग्रामीण और पुलिस सकते में है। गोविंद तरहसी थाना क्षेत्र के ललगड़ा गांव का निवासी था।  

कब्जे में लेकर पहले पीटा, फिर मार दी गोली

जिला मुख्यालय डालटनगंज से 62 किलोमीटर दूर और हरिहरगंज में एनएच 98 से सटे तेंदुआ-हल्का गांव के बीच बतरे नदी पर बन रहे पुलिस निर्माण स्थल पर रात करीब नौ बजे डेढ़ दर्जन नक्सलियों ने दस्तक दी और घेराबंदी कर मजदूरों सहित अन्य को कब्जे में ले लिया। बाद में मजदूरों और गार्ड से गोविंद चन्द्रवंशी की पहचान करायी। मजदूरों में से किसी ने तो कोई जानकारी नहीं दी, लेकिन गार्ड विनोद यादव ने गोविंद चन्द्रवंशी की पहचान कर दी। इसके बाद नक्सली गोविंद को कब्जे में ले लिया और उसके दोनों हाथ पीछे बांध दिए और राॅड से पिटायी शुरू कर दी। पीटते-पीटते बतरे नदी में ले गए और वहां उसे पीछे से गोली मार दी।  

माओवादी जिंदाबाद के लगे नारे 

ग्रामीणों के अनुसार रात में उन्होंने पिटायी से चिल्लाने और गोली चलने की आवाज सुनी। बाद में हवा में फायरिंग के बाद माओवादी जिंदाबाद के नारे लगाते कुछ लोग चले गए। आवाज से लग रहा था कि उनकी संख्या 10 से 15 के आस-पास रही होगी। 

अपराधियों ने दिया घटना को अंजाम: एसपी 

जिले के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने बताया कि घटना रात करीब 09.30 बजे रात्रि की है। प्रारंभिक जांच में यह घटना आपराधिक गिरोह के द्वारा रंगदारी नही देने के कारण किये जाने की बात प्रकाश में आई है। कांड के उदभेदन का प्रयास जारी है। शीघ्र इसका उदभेदन कर लिया जाएगा। एसडीपीओ छतरपुर शंभू कुमार सिंह के नेतृत्व में रात्रि में जाकर घटनास्थल पर जाकर विधिवत अनुसंधान प्रारम्भ किया गया। एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है, क्योंकि वही मृतक को बुलाकर घटनास्थल पर ले गया था। अपराधकर्मी बाइक से आए थे और देशी कट्टे से गोली चलाई। घटनास्थल से .315 का एक खोखा बरामद किया गया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

अंतिम स्टेज में था पुल निर्माण 

बतरे नदी पर पुल निर्माण अंतिम स्टेज में था। निर्माण कार्य दिसम्बर 2017 से चल रहा था। आशुतोष कंस्ट्रक्शन कंपनी इसका निर्माण करा रही थी और इसके ठेका रामजतन यादव के नाम से था। पुल की छत्त की ढलाई हो गयी थी। रेलिंग का कार्य होना था। निर्माण स्थल पर ही झोपड़ीनुमा घर बनाकर मजदूर और मुंशी रहते थे। 

18 अप्रैल को होनी थी मुंशी की शादी

मुंशी गोेविंद चन्द्रवंशी (25वर्ष) की शादी तय हो गयी थी। आगामी 18 अप्रैल को उसकी शादी होनी थी। गोविंद के पिता महेन्द्र राम ने बताया कि घर में शादी की तैयारी चल रही थी। घटना के बाद शादी की खुशियां मातम में बदल गयी है। परिजन और गांववाले दुखी हैं।